धर्म-अध्यात्म

सनातन वैदिक धर्मियों के लिये राष्ट्र वन्दनीय है तथा सत्यार्थप्रकाश इसका पोषक है

-मनमोहन कुमार आर्य                संसार में मत–मतान्तर तो अनेक हैं परन्तु धर्म एक ही है।…

नर्मदा का कंकड़ भी नर्मदेश्वर शिवलिंग बन जाता है।

विश्व की एकमात्र पाप-नाशिनी है नर्मदा–                     आत्माराम यादव                समूचे विश्व में जो दिव्य…

महाभारत युद्ध के बाद ऋषि दयानन्द जैसे कुछ ऋषि होते तो देश में अविद्या व अन्धविश्वास उत्पन्न न होते

-मनमोहन कुमार आर्य                हमारा देश महाभारत युद्ध के बाद अज्ञान, अन्धविश्वास, पाखण्ड, कुरीतियों वा…