छठ पूजा 2017 कब , क्यों और  कैसे मनाएं ??

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

जानिए छठ पूजा का महत्त्व और छठ पूजा का पूजा विधान … छठ पर्व सूर्यदेव की उपासना के लिए प्रसिद्ध है। मान्यता है कि छठ देवी सूर्यदेव की बहन है। इसलिए छठ पर्व पर छठ देवी को प्रसन्न करने के लिए सूर्य देव को प्रसन्न किया जाता है।छठ हिंदू त्यौहार है जो हर साल लोगों… Read more »

जानिए दशहरा / विजयदशमी क्यों, कब ,क्यूँ और कैसे मनाएं ??

Posted On by & filed under वर्त-त्यौहार, समाज

(दशहरा पर्व मनाने के पीछे क्या है कारण?) हिन्दू धर्मे में नवरात्री का त्यौहार बड़ी ही धूम धाम से मनाया जाता है नवरात्रि का त्यौहार साल में दो बार आता है पहला नवरात्रि त्यौहार चैत्र मास में और दूसरा नवरात्रि अश्विन मास में आता है, अश्विन मास में जो नवरात्री का त्यौहार आता है उसे… Read more »

रक्षा बन्धन 2017

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म

12साल बाद ऐसा संयोग बना है जब राखी के दिन ग्रहण लग रहा है। इसलिए इस बार राखी के दिन सूतक का भी लगेगा || पूर्णिमा तिथि का प्रारम्भ 6 अगस्त 2017 को रात्रि10:28 बजे से आरंभ होगा परन्तु भद्रा काल व्याप्त रहेगी। भद्रा रहेगी—– आखिर भद्रा में क्यों नहीं बांधी जाती राखी? पंडित दयानन्द… Read more »

ईद इंसानियत का पैगाम देता है 

Posted On by & filed under वर्त-त्यौहार, समाज

रोजा वास्तव में अपने गुनाहों से मुक्त होने, उससे तौबा करने, उससे डरने और मन व हृदय को शांति एवं पवित्रता देने वाला है। रोजा रखने से उसके अंदर संयम पैदा होता है, पवित्रता का अवतरण होता है और मनोकामनाओं पर काबू पाने की शक्ति पैदा होती है। एक तरह से त्याग एवं संयममय जीवन की राह पर चलने की प्रेरणा प्राप्त होती है। इस लिहाज से यह रहमतों और बरकतों का महीना है।

जानिए मोती का प्रभाव और मोती क्यों पहने ???

Posted On by & filed under ज्योतिष, धर्म-अध्यात्म

पुरातन काल से ही रत्नों का प्रचलन रहा है | मानिक मोती मूंगा पुखराज पन्ना हीरा और नीलम ये सब मुख्य रत्न हैं | इनके अतिरिक्त और भी रत्न हैं जो भाग्यशाली रत्नों की तरह पहने जाते हैं | इनमे गोमेद, लहसुनिया, फिरोजा, लाजवर्त आदि का भी प्रचलन है | रत्नों में ७ रत्नों को… Read more »

जानिए आप कैसे अपना बुरा समय बदल सकते हैं घड़ी की स्थिति (पॉजिशन) से —

Posted On by & filed under ज्योतिष, विविधा

घड़ी कभी भी दक्षिण दिशा वाली दीवार पर नहीं लगाएं। दक्षिण दिशा को फेंगशुई एवं वास्तु दोनों में ही शुभ नहीं माना गया है क्योंकि यह यम की दिशा होती है। विज्ञान के अनुसार इस दिशा में निगेटिव एनर्जी होती है। दक्षिण दिशा की दीवार पर घड़ी होने से बार-बार आपका ध्यान इस दिशा की ओर जाएगा। इससे बार-बार दक्षिण दिशा की नकारात्मक उर्जा आप प्राप्त करेंगे।

जोगीरा हास्य व्यंग की अनूठी विधा

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

किसके बेटा राजा रावण किसके बेटा बाली?
किसके बेटा हनुमान जी जे लंका जारी?
विसेश्रवा के राजा रावण बाणासुर का बाली।
पवन के बेटा हनुमान जी, ओहि लंका के जारी।
जोगी जी वाह वाह, जोगी जी सारा रा रा।

बुराई को त्यागने का प्रतीक है होली

Posted On by & filed under पर्व - त्यौहार, वर्त-त्यौहार, समाज

रंगों का पर्व होली हिन्दुओं का पवित्र त्यौहार है। यह मौज-मस्ती व मनोरंजन का त्योहार है। सभी हिंदू जन इसे बड़े ही उत्साह व सौहार्दपूर्वक मनाते हैं। यह त्योहार लोगों में प्रेम और भाईचारे की भावना उत्पन्न करता है।

होली पर्व भारत में बहुसांस्कृतिक समाज के जीवंत रंगों का प्रतीक

Posted On by & filed under कला-संस्कृति, पर्व - त्यौहार, वर्त-त्यौहार, समाज

होली पर्व पूरे देश में परंपरा, हर्षोल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाने वाला त्यौहार है। होली पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। होली पर्व हमारे देश में उपस्थित बहुसांस्कृतिक समाज के जीवंत रंगों का प्रतीक है। होली पर्व देश में हमारी संस्कृति और सभ्यता के मूल सहिष्णुता और सौहार्द की भावना को बढ़ावा देने वाला पर्व है। इस पर्व को सभी लोगों को शांति, सौहार्द और भाईचारे की भावना से मनाना चाहिए।

जानिए वर्ष 2017 में होलिका दहन का शुभ मुहूर्त

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म, वर्त-त्यौहार

संवत् 2073 दिनांक 12 मार्च 2017 को भारत के विभिन्न स्थानों पर होलिका दहन का मुहूर्त नीचे दिए गए समय के अनुसार ही करे वह समय इस प्रकार से है ।। वर्ष 2017 में होलिका दहन 12 मार्च 2017, रविवार के दिन मनाई जाएगी. होलिका दहन मुहूर्त = 06:23 pm से 08:23 pm तक रहेगा…. Read more »