धर्म-अध्यात्म

पापों में वृद्धि का कारण ईश्वर द्वारा जीवों को प्राप्त स्वतन्त्रता का दुरुपयोग

–मनमोहन कुमार आर्य                संसार में मनुष्य पाप व पुण्य दोनों करते हैं। पुण्य कर्म…

पाप कर्मों का त्याग तथा वेद धर्माचरण ही जन्म-जन्मान्तरों में सुख व उन्नति का आधार है

–मनमोहन कुमार आर्य                मनुष्य को यह जन्म उसके पूर्वजन्मों के पाप–पुण्यरूपी कर्मों के आधार…