धर्म-अध्यात्म

“हम सभी जीवात्माओं को कुछ समय बाद अपने शरीर व सगे सम्बन्धियों को छोड़कर परलोक जाना है”

मनमोहन कुमार आर्य,  हम संसार में जीवन व मृत्यु का नियम संचालित होता देखते हैं।

“मनुष्य को बुरा नहीं सोचना चाहिये तथा सभी बुराईयों की जड़ बुरे विचार ही हैं : वीरेन्द्र शास्त्री”

मनमोहन कुमार आर्य, आर्यसमाज लक्ष्मण चौक, देहरादून के तीन दिवसीय 52 वें विर्षकोत्सव के प्रथम

’’यदि हमारे गीत गाने से वैदिक धर्म का प्रचार न हो तो हमारा गीत व संगीत फेल है: प. सत्यपाल पथिक’’

-मनमोहन कुमार आर्य, वैदिक साधन आश्रम तपोवन देहरादून के शर्दुत्सव के चैथे दिन 6-10-2018 को

“देश के युवाओं को आज अभद्रता करने की छूट दी गई है। हम अपने बच्चों को अभद्रता नहीं परोस सकते : डॉ. विनोद शर्मा”

मनमोहन कुमार आर्य,  वैदिक साधन आश्रम तपोवन देहरादून का पांच दिवसीय शरदुत्सव 3 अक्टूबर से

“ऋषिभक्त विद्वान मधुवर्षी प्रभावशाली कवि-हृदय भजनोपदेशक श्री नरेश दत्त आर्य”

मनमोहन कुमार आर्य,  आर्यसमाज में वेद ज्ञान पर आधारित अमृत वर्षा करने वाले अनेक भजनोपदेशक