केन्द्र की सख्ती और कालेधन पर लगाम

Posted On by & filed under राजनीति, सार्थक पहल

सुरेश हिन्दुस्थानी अभी हाल ही में स्विस बैंक द्वारा जारी किए गए कालेधन के आंकड़ों से यह प्रमाणित हो गया है कि जब से केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की सरकार पदारुढ़ हुई है, तब से कालेधन में कमी आई है। हालांकि कालेधन के मामले को लेकर देश की विपक्षी राजनीति, केन्द्र सरकार पर निशाना साधने… Read more »

कुछ कर गुजरने के जूनुन ने पहुंचाया जया को इस मुकाम तक

Posted On by & filed under जन-जागरण, महिला-जगत, समाज, सार्थक पहल

जया देवी का सराधी गांव  हर साल सूखे के कारण फसलों के बर्बाद होने से परेशान रहता था। ऐसे में जया देवी ने इस समस्या का तोड़ निकालने का फैसला लिया और एक दिन वो एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट एजेंसी  के गवर्निंग सदस्य किशोर जायसवाल  से मिलीं। उन्होने जया को सूखे का कारण और बारिश के पानी को कैसे बचाया जाये? इसके बारे में बताया। किशोर जायसवाल ने उनको बंजर जमीन  पर पेड़ लगाने के लिए कहा।

बेटी ने बदला परिवार का जीवन

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

पवन वैष्णव किसानों का देश कहा जाने वाला भारत, जहाँ देश का अन्नदाता आज खुद अन्न को तरस रहा है और बदहाल जीवन जी रहा है। बीते कुछ दिनों में किसानों की आत्महत्या के बहुत से मामले सामने आए हैं। किसानों की आत्महत्या की अहम वजह उनका बढ़ता कर्ज़, गरीबी और भुखमरी है। एक ओर… Read more »

जिम्मेदारी का घड़ा और स्वच्छता की पहल

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

मनोज कुमार गर्मी की तपन बढऩे के साथ ही अनुपम मिश्र की याद आ गयी. उनके लिखे को एक बार फिर पढऩे का मन किया. उनको पढ़ते हुए मन में बार बार यह खयाल आता कि वे कितनी दूर की सोचते थे. एक हम हैं कि कल की भी सोच पाने में समर्थ नहीं है…. Read more »

मुचकुंद दूबे के लालन शाह

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

प्रो. मुचकुंद दूबे ने हिंदी में वह काम कर दिखाया है, जो रवीन्द्रनाथ टैगोर ने लालन शाह फकीर के लिए बांग्ला में किया था। लालन शाह एक बाउल संत थे, जिनका जन्म 1774 में हुआ माना जाता है और निधन 1890 में याने उन्होंने 116 साल की उम्र पाई। आज बांग्लादेश के घर-घर में उनके… Read more »

 पर्यावरण से छेड़छाड़ के बिना ही मिलने लगा भरपूर पानी

Posted On by & filed under परिचर्चा, समाज, सार्थक पहल

“जब मैं छोटा था बहुत बारिश और बर्फ होती थी। मई के अंत तक पहाड़ बिल्कुल सफेद रहते थे। लेकिन अब बर्फ बहुत ही कम हो गए हैं। सफेद की जगह हरे नजर आते हैं। क्योंकि बारिश ज्यादा होने लगी है”। ये वाक्य है लद्दाख के फ्यांग गांव में रहने वाले 80 वर्षीय टुंडुप वांगाईल का। इसी गांव के 51 वर्षीय रींचेन वांगड़ूज़ बताते हैं कि “साल दर साल वाहनो से निकलने वाले धुंए के कारण वायु प्रदूषण बढ़ रहा है। और ग्लेशियर तेजी से पिघल रहे है”।

भारत में एक फादर टेरेसा भी है

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

आज सेवाधाम के 500 आवासी सीमेंट के पक्के भवनों में रहते हैं। सबके लिए साफ-सुथरे बिस्तर और पलंग लगे हुए हैं। सबको उत्तम भोजन मिलता है। अपंग बच्चों के लिए विशेष इलाज और कसरत का प्रबंध है। अब इस सेवाधाम को मांगे बिना ही करोड़ों रु. दान में मिलते हैं। मुंबई के गिरीश शाह और जयेश भाई का विशेष योगदान है। कश्मीर से केरल तक के लोग यहां हैं। यहां जाति और मजहब का कोई बंधन नहीं है।

अनोखा मदरसा ‘मुईन उल इस्लाम’ में सद्भावना का पाठ

Posted On by & filed under समाज, सार्थक पहल

आगरा देवरैठा का मदरसा हिंदू-मुस्लिम एकता की किसी मिसाल से कम नहीं है। यहां धर्म की दीवार तोड़ बच्चे उर्दू और संस्कृत दोनों विषयों की शिक्षा एकसाथ गृहण कर रहे हैं। मुस्लिम बच्चे संस्कृत के श्लोकों का उच्चारण जबकि हिंदू बच्चे कुरान की आयतें पढ़ते हैं। शिक्षक हों या बच्चे, सभी कहते हैं, मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना। कक्षा आठ की छात्रा निशा खान के मुंह से गायत्री मंत्र का उच्चारण सुन लगेगा मानो इस बच्ची की जुबां पर स्वयं सरस्वती मां विराजमान हो गई हैं। मासूम से चेहरे पर न तो किसी धर्म की परछाई दिखाई पढ़ती है और न ही किसी प्रकार का धार्मिक भेदभाव। कक्षा सात के छात्र ऋषभ उर्दू सीखता है और कुरान की आयतें भी पढ़ता है।

हाजी अली दरगाह दिखाए रास्ता

Posted On by & filed under विविधा, सार्थक पहल

1931 में दरगाह ट्रस्ट को 171 वर्ग मीटर जगह मस्जिद के लिए दी गई थी लेकिन प्रबंधकों ने 908 वर्ग मीटर जगह घेर ली। मुंबई की नगर निगम ने मुकदमा चलाया तो मुंबई उच्च न्यायालय ने मस्जिद और दुकानों को सारे इलाके से हटाने के आदेश जारी कर दिए लेकिन सर्वोच्च न्यायालय ने ऐसे संकेत दिए कि यदि सारे अवैध कब्जे को ट्रस्ट हटा ले तो मस्जिद बच सकती है। ट्रस्ट ने आगे होकर कहा कि वह 737 वर्ग मीटर जमीन पर बने सारे अवैध निर्माणों को खुद खत्म करेगा।

बदलनी शुरु हो गई आगरा में यमुना की तस्बीर

Posted On by & filed under विविधा, सार्थक पहल

यमुना निर्मलीकरण से सम्बन्धित समिति के दिनांक 06.08.2009 के आवेदनपत्र पर तत्कालीन आयुक्त महोदया माननीया राधा एस. चैहान की अध्यक्षता में दिनांक 17.08.2009 को आयुक्त सभागार में एक बैठक भी आहूत हो चुकी है। इसके कुछ विन्दुओं पर कुछ कार्यवाही भी हुई थी और कई अभी भी लम्बित पड़े हैं। इस कार्य के सम्पन्न होने पर जहां भारत की स्वच्छता व हरीतिमा का पुनः दर्शन सुगम हो सकेगा वहीं आगरा शहर एक हेरिटेज सिटी की ओर भी बढ़ सकेगा।