लेखक परिचय

ए. आर. अल्वी

ए. आर. अल्वी

एक बहुआयामी व्यक्तित्व। हिंदी और उर्दू के जानकार होने के साथ-साथ कवि, लेखक, संगीतकार, गायक और अभिनेता। इनकी कविता में जिंदगी के रंग स्पष्ट तौर पर दिखते हैं। आस्टेलिया में रहने वाले अल्वी वहां के कई सांस्कृतिक संगठनों के संग काम कर चुके हैं। कई साहित्यिक मंचों, नाटकों, रेडियो कार्यक्रमों और टेलीविजन कार्यक्रमों में भी उन्होंने शिरकत की है। हिंदी और उर्दू के कविओं को आमंत्रित करके उन्होंने आस्टेलिया में कई कवि सम्मेलन और मुशायरा भी आयोजित किया है। भारतीय और पश्चिमी संगीत की शिक्षा हासिल करने वाले अल्वी ने रूस के मास्को मॉस्को में ‘गीतीका’ के नाम से आर्केस्ट भी चलाया। अब तक अल्वी के कई संगीत संग्रह जारी हो चुके हैं। ‘कर्बला के संग्रह’ से शुरू हुआ संगीत संग्रह का सफर दिनोंदिन आगे ही बढ़ता जा रहा है।

Posted On by &filed under कविता.


अच्‍छी लगती थीं वो सब रंगीन पतंगें

काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

कुछ सजी हुई सी मेलों में

कुछ टंगी हुई बाज़ारों में

कुछ फंसी हुई सी तारों में

कुछ उलझी नीम की डालों में

उस नील गगन की छाओं में

सावन की मस्‍त बहारों में

कुछ कटी हुई कुछ लुटी हुई

पर थीं सब अपने गांव में

अच्‍छी लगती थीं वो सब रंगीन पतंगें

काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

था शौक मुझे जो उड़ने का

आकाश को जा छू लेने का

सारी दुनिया में फिरने का

हर काम नया कर लेने का

अपने आंगन में उड़ने का

ऊपर से सबको दिखने का

फिर उड़ कर घर आ जाने का

दादी को गले लगाने का

कैसी अच्‍छी होती थीं बेफ़िक्र उमंगें

अच्‍छी लगती थीं वो सब रंगीन पतंगें

काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

अब बसने नये नगर आया

सब रिश्‍ते नाते छोड आया

उडने की चाहत में रहकर

लगता है मैं कुछ खो आया

दिल कहता है मैं उड जाऊं

बनकर फिर से रंगीन पतंग

कटना है तो फिर कट जाऊं

बन कर फिर से रंगीन पतंग

लुटना है तो फिर लुट जाऊं

बन कर फिर से रंगीन पतंग

आकाश में ही फिर छुप जाऊं

बन कर फिर से रंगीन पतंग

पर गिरूं उसी आंगन में

और मिलूं उसी ही मिट्टी में

जिसमें सपनों को देखा था

जिसमें बचपन को खोया था

जिसमें मैं खेला करता था

जिसमें मैं दौड़ा करता था

जिसमें मैं गाया करता था सुरदार तरंगें

जिसमें दिखती थीं मेरी ख़ुशहाल उमंगें

जिसमें सजतीं थीं मेरी रंगदार पतंगें

काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

हां, अच्‍छी लगती थीं वो सब रंगीन पतंगें

काली नीली पीली भूरी लाल पतंगें

-अब्‍बास रज़ा अल्‍वी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *