More
    Homeसाहित्‍यकवितादेश के हालात खराब है,क्या करोगे तुम देखकर |

    देश के हालात खराब है,क्या करोगे तुम देखकर |

    देश के हालात खराब है,क्या करोगे तुम देखकर |
    कुछ लोग देश बेच रहे है,रो पड़ोगे तुम देखकर ||

    नाम नहीं लेता हूँ मै उसका,खुद ही समझ जाओगे |
    दुश्मन देश में शूटिंग होगी,अपने देश को छोड़कर ||

    देश प्रेम है केवल दिखावा,मन में उसके कुछ और है|
    लोगो को वह लुभाता है,”सत्यमेय विजयते”वह कहकर ||

    चारो तरफ हाहाकार मचा है,सारे कारोबार है बंद पड़े|
    छोटे बच्चे सामन बेचते है,फुटपाथ पर अकेले बैठ कर ||

    कोई गुब्बारे बेच रहा है,कोई झंडे पेपर है बेच रहा |
    बच्चे ही बच्चो को देखकर,रो पड़ते है वे सब देखकर ||

    मजहबी तूफान मचा है,कोई किसी की सुनता नहीं |
    धर्म ईमान बिक रहा है,मंदिर मस्जिदों में बैठ कर ||

    गरीबी हटाने के चक्कर में,और लोग भी गरीब हो रहे |
    गरीब बिकता है हर कोने में,आँखे देखो तुम खोल कर ||

    आर के रस्तोगी

    आर के रस्तोगी
    आर के रस्तोगी
    जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    * Copy This Password *

    * Type Or Paste Password Here *

    11,559 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress

    Captcha verification failed!
    CAPTCHA user score failed. Please contact us!

    Must Read