धरना है।।

धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है
धरना धरने की खातिर है, धरना, धरना धरना है।
चाहे भवन विधान घेराव करें, या भरी दुपहरी बदन जरे
मंत्री और मुखिया मौज करें, बस भाषण देकर पेट भरे।
बेरोजगार की एक चाह, रोजगार कोई अब करना है
धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है।
उस वर्दी को क्यों सलाम करें, ले लाठी कत्लेआम करें
रिश्वत ले सबका काम करें, और सीधे को बदनाम करें।
अब तानाशाही बहुत हुई, इनसे भी तो अब भिड़ना है
धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है।
काम एक पर दाम अलग, काम वही पर दाम अलग
घोड़े हैं वही लगाम अलग, हैं उनके चारो धाम अलग।
इस बंटवारे की राजनीति को ,दूर हमे ही करना है
धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है।
कोई लेता चालिस हजार, कोई घूमे बेरोजगार
अब कहां गया वो संविधान , देता समानता का जो सार।
संविधान में समानता का शब्द सार्थक करना है
धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है।
वेतन छूता है आसमान, हैरान परेशां है किसान
सत्ता के लोभी दे तू ध्यान, पानी के भाव में बिके धान।
अब वो किसान भी कहता है, कि मरना नहीं अब लड़ना है
धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है।
तेरी राजनीति की कमर तोड़, बहती नदिया की धार मोड़
अब स्वार्थ सिद्धि की नस मरोड़, और सबको अपने साथ जोड़।
हे लाल भारती के जागो, अब पार तुम्हे ही करना है
धरना है भाई धरना है, धरने में भी धरना है।
धरना धरने की खातिर है, धरना, धरना धरना है।।

  • अजय एहसास

Leave a Reply

%d bloggers like this: