जलियाँ वाला बाग बोल रहा हूँ,

0
178

जलियाँ वाला बाग बोल रहा हूँ,जालिम ड़ायर की कहानी सुनाता हूँ |
निह्त्थो पर गोली चलवाई जिसने मरने वालो की चीख सुनाता हूँ ||

चश्मदीद गवाह था मै,यह सब कुछ देखा रहा था शैतान की करतूतों को |
मेरे भी आँखों में आँसू थे,पर बोल रहा नहीं था देख शैतान की करतूतों को ||

13 अप्रैल १९१९ बैसाखी का दिन था,जब काफी वीर सपूत आये थे |
रोलेट एक्ट के विरोध करने को सब यहाँ मीटिंग करने को आये थे ||

सौ वर्ष के बाद भी आज उनकी चीखे सुनाई देती है |
उनकी आत्मायें भी आज सपनों में दिखाई देती है ||

उधम सिंह था एक देश भक्त ,जिसने ख़ूनी डायर को मारा था |
चने चबाते चबाते लन्दन जाकर उसके घर में घुस कर मारा था ||

उधम सिंह केवल 11 साल का बालक था जब उसने ये घटना देखी थी |
कसम खाई उसी दिन उसने जब जनरल डायर को मारने की ठानी थी ||

करता रहा 21 साल तक कोशिश,गरीब वह अपने घर से था ||
मेहनत मजदूरी करके बेचारा वह ,पहुचा कातिल के घर में था ||

चलाई तीन गोलियां डायर पर जब वह मीटिंग में बोल रहा था |
कर दिया सरंडर अपने आप को “बदला ले लिया” बोल रहा था ||

करते है नमन आज उसको जिसने कातिल को घुस कर मारा था |
सुना रहा है ये दुर्घटना जलियाँ वाला बाग,जो कभी नहीं हारा था ||

आर के रस्तोगी

Previous articleदेश-द्रोहियों के मताधिकार?
Next articleधरना है।।
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here