लेखक परिचय

अश्वनी कुमार, पटना

अश्वनी कुमार, पटना

Posted On by &filed under खान-पान, विविधा.


.foodingमैं बचपन से ही शादी-पार्टियों में खाने का शौक़ीन रहा हूँ| बचपन में जब गाँव में रहता था तो वहां बाराती वालों के बाद गाँव-मुहल्ले को खिलाने का इंतजाम किया जाता था| जब तक काफी रात हो चुकी होती थी और मैं भी बुलावे का इंतज़ार करते-करते भूखे पेट ही सो जाता था| उस वक्त जनरेटर का इंतजाम संपन्न लोग ही करते थे, बिजली दूर की बात थी| टॉर्च के सहारे निमंत्रण स्थल तक पहुंचना तो साथ में लोटे में पानी लेकर जाना और जमीन पर पंगत में बैठकर गैस लाइट की रौशनी में पूरी-सब्जी खाना, इन सारी चीजों की अब कमी खलती है| क्योंकि आधुनिक जो हो गए हैं हम…

 

पत्ते की सौंधी खुशबु वाली प्लेट में पूरी-बुंदिया-सब्जी खाने की बात कुछ और ही है, लेकिन बचपन में लगभग हर एक निमंत्रणों में मुझे इसके और चटनी के अलावा कुछ नहीं मिलता था| तब मैं सोचता था की मैं भी एक दिन बड़ा होऊंगा और इनलोगों के जैसे मुफ्त में मिठाइयाँ खाऊंगा| (उम्मीद है की आप मुस्कुरा रहे होंगे…)

 

अब शादी-पार्टियों में वो बात नहीं रही| अब तो मैं बड़ा भी हो गया हूँ और अन्य भारतीय युवाओं की तरह मैं भी सौ रुपये देकर दो सौ का खाना चट कर जाने में यकीन रखता हूँ| फिर भी ऐसा नहीं है की निमंत्रण के दिन दोपहर से ही भूखे नहीं रहता हूँ, बेशक रहता हूँ और जमकर खाता हूँ| पेट भर जाने के बाद भी एक-दो बार और आइसक्रीम खा लेता हूँ, आखिर सौ रुपये वसूल तो करने ही हैं|

 

बताइए की मैं ऐसा क्यूँ न करूँ? जहाँ दो-तीन खाने के आइटमों से भी मेहमानों की तशरीफ़ रखी जा सकती है वहीँ अब हमारा समाज इस फ़ोकट के दिखावे के लिए जमकर पैसे बहा रहा है| मिडिल क्लास परिवारों की हालत है की जितना वो खाने पर खर्च करते हैं उससे कहीं ज्यादा सजावट पर खुद को लुटा देते हैं| समारोह संपन्न होने के बाद उनकी आर्थिक स्थिति क्या हो जाती है बताने की जरूरत नहीं| पता है आपको की एक रिसर्च में बताया गया है की लोग शादियों में जितना खाते हैं उससे ज्यादा जूठन फेंक देते हैं| और हमने तो इसे बार-बार महसूस किया है|

 

पश्चिमी सभ्यता के नाम पर फैशन और दिखावे की इस चकाचौंध में हमारा समाज अँधा होता जा रहा है| बहुत जरूरी है की हमें आगे आकर अन्न की इस बर्बादी को रोकने के लिए पहल करनी चाहिए ताकि किसानों की मेहनत का सम्मान हो, भूखे की तादाद कम हो| पर लोग मानेगें, इसकी कम ही उम्मीद है| नहीं मानेगें तबतक मैं दोपहर से ही भूखे रहकर इनलोगों को सौ देकर दो सौ का खाना चट करता रहूंगा….   ये मेरी प्रतिज्ञा है…

One Response to “शादियों में खाने का मज़ा..”

  1. Rekha Singh

    अच्छा है आपने इस सबके बारे मे चर्चा की । हम सब तो गधे की तरह नकलची हो गए है । अपना सब कुछ तो हमे पता ही नही है और यदि पता है तो हमारे अंदर आत्म सम्मान और आत्मगौरव रह ही नही गया ।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *