पहली नज़र का प्यार

 
वो पहली नज़र का पहला प्यार
वो दिल ही दिल में खुद से होता
ख़ामोशी भरा अनजाना इकरार।
सोचा न था कभी भी मैंने ये
एक मुलाकात से बदल जाएगी
दुनिया मेरी और मेरी पहचान।
एक वक़्त ऐसा भी आएगा जब
मैं करूंगी अपने प्यार का इज़हार।
ज़िन्दगी में मेरी भी ये पल आया है
जब मैंने प्यार को दिल में बसाया है।
और बदले में मिला है मुझे भी उस
उस अपने का साथ और बेहद प्यार।
प्यार का ये रिश्ता प्यार से ही सजा रहे
सपने पलकों में मेरी भी सजते रहें।
बस तमन्ना है सिर्फ एक ही अब कि

इस रिश्ते में न आए कोई भी दीवार।

 

 

इंतज़ार रहेगा मुझे…
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़िन्दगी में जगह बना पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे सपनों को सिर्फ मैं ही सजाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे ख्यालों में तस्वीर अपनी बनाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे सपनों में मैं भी रंग भर पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़िन्दगी की बगिया महकाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़ुबां से अपना नाम सुन पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे ख्यालों पर मैं भी छा जाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब मैं तेरे लिए कुछ भी कर पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब गीत कोई तेरे लिए गुनगुनाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरी ज़िन्दगी का नगमा बन पाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब तेरे लबों का तराना मैं बन जाऊं।
इंतज़ार रहेगा मुझे उस दिन का
जब मैं यह इंतज़ार ख़त्म कर पाऊं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: