लेखक परिचय

प्रवीण गुगनानी

प्रवीण गुगनानी

प्रवीण गुगनानी, दैनिक समाचार पत्र दैनिक मत के प्रधान संपादक, कविता के क्षेत्र में प्रयोगधर्मी लेखन व नियमित स्तंभ लेखन.

Posted On by &filed under कविता.


शहर से बड़ी दूर ढलती शाम में

सचमुच ही कोलाहल जहां हो गया था निराकार और निर्विकार

कहीं दूर दूर होती ध्वनियों पर बैठ जाया करती थी जहां एक चिड़िया

चिड़िया के पंखों पर लटक जाते थे शब्द

वे शब्द खो देते थे अपने अर्थों को

और हो जाते थे भारहीन.

मुझे याद है वो सुन्दर चिड़िया

चोंच जिसकी थी रक्ताभ

और पंख जैसे सुनहरी

आँखों में वह लिए उडती थी

स्वयं ईश्वर के एक अंश को.

अच्छा लगता था बड़ी दूर से

उसकी आँखों से मुझे देखा जाना

मैं बड़ी दूर होता था फिर भी

ईश्वर के अंश वाली उस चिड़िया की आँखों में

भय तो होता ही था

मेरे दुनियावी सरोकारों से डरती थी.

किन्तु समय के साथ साथ

भय उसका मुझसे बोलते बतियाते

कुछ हल्का हो गया था

और मैं

उसकी ईश्वरीय अंश वाली आँखों से प्रेम करने लगा था.

 

2 Responses to “ईश्वर का अंश लिए आँखें चिड़िया की”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *