लेखक परिचय

प्रवीण गुगनानी

प्रवीण गुगनानी

प्रवीण गुगनानी, दैनिक समाचार पत्र दैनिक मत के प्रधान संपादक, कविता के क्षेत्र में प्रयोगधर्मी लेखन व नियमित स्तंभ लेखन.

Posted On by &filed under राजनीति.


-प्रवीण गुगनानी- fransis disuja-दुःख, शर्म, खेद, विडम्बना और नयन नीचे कि गोवा के उप मुख्यमंत्री ने हिन्दू राष्ट्र वाले मुद्दे पर क्षमा मांग ली और हिन्दू राष्ट्र के मुद्दे का एक आगे बढ़ा एक कदम कई कदम पीछे आ गया. यद्दपि विचार के उन्नयन क्रम में ऐसे उतार चढ़ाव आते रहते हैं, इसलिए इस क्रम को भी विचार के उन्नयन का ही अंश माना जाना चाहिए, तथापि स्वीकार करना ही होगा कि सदा कि तरह इस देश में निरीह होते जा रहे राष्ट्रवादियों को बाहुबली राजनैतिक खूंखार किन्तु निर्चत्न्य, संवेदनाहीन शेरों का पुनः शिकार बनना पड़ा. यहां स्वीकारोक्ति देना होगी कि फ्रांसिस डिसूजा तो अपने कहे पर दृढ़ और टिके रहे किन्तु उनकी अपनी पार्टी ही यू-टर्न मार गई. यह भी स्वीकार करना होगा कि उन्हें इस मुद्दे पर भाजपा के समर्थन की भी आवश्यकता नहीं थी; उन्हें देश, समाज और विचार का सतत समर्थन मिल रहा था; भाजपा को केवल कुछ दिन मौन रहना था और पहले इस मुद्दे पर समाज और देश की आवाज को सामने आने देना था. फ्रांसिस डिसूजा ने जो कहा वह चतुर्दिक प्रभाव करने वाला व्यक्तव्य था और “प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की पिछले वर्ष की उस स्वीकारोक्ति का विस्तार ही था कि वे एक हिन्दू राष्ट्रवादी हैं”. एक ईसाई हिन्दू की इस युगीन स्वीकारोक्ति कि “भारत पूर्व से हिन्दू राष्ट्र है” पर पीछे हटने के स्थान पर न्यायालय की शरण में जाना चाहिए था, उन राजनैतिक दलों के विरुद्ध जिन्होंने इस विषय पर चर्च का आह्वान करते हुए एक व्यक्ति की धार्मिक स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार पर हमला किया, चर्च के फादर से निवेदन करते हुए और साम्प्रदायिकता फैलाई. इस देश के एकाधिक उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालय से सिद्ध हो चुकी यह अवधारणा कि हिन्दू एक अ-साम्प्रदायिक शब्द है के आलोक में फ्रांसिस डिसूजा की व्यक्तिगत और धार्मिक स्वतंत्रता के हनन और साम्प्रदायिता पूर्वक चर्च से राजनैतिक दलों के सार्वजनिक संवाद पर इस देश का तथाकथित बुद्धिजीवी मीडिया और उसके पूर्वाग्रही एंकरों का दायित्व बोध विलोपित क्यों हुआ? कई सवाल हैं जो अनुत्तरित हैं और इतिहास जिनका जवाब भी मांगेगा और जिम्मेदारियों और दायित्वों पर अनावश्यक बैठे लोगों की एकाउंटिंग भी करेगा! भाजपा के टीवी बहसबाज भी इस बहुप्रतीक्षित, संवेदनशील, महत्वाकांक्षी पर बिना तैयारी के आये और पूर्वाग्रही टीवी एंकरों के शिकार हो गए. आज आवश्यक हो गया है कि देश, समाज और विचार के मुद्दों पर इन अवसरवादी राजनीतिज्ञों, पूर्वाग्रही टीवी एंकरों और तथाकथित बुद्धिजीवियों की बात को ही नहीं बल्कि देशज, देहाती और राष्ट्रवादी स्वरों को भी मीडिया मुखर करें और स्थान दे; समय की मांग तो यही है. टीवी के समक्ष चार व्यक्तियों का बैठ जाना और थोथा चना बाजे घना की तर्ज पर प्रत्येक राष्ट्रवादी विचार का वध-उत्सव आयोजन बंद किया जाना चाहिए या फिर इस क्रम को कम से कम बहिर्मुखी होकर समाज की आवाज को सुननें और उसे मुखर करने के सामाजिक और पेशा आधारित दायित्वों को सदाशयता से निभाना चाहिए. हुआ यह कि गोवा की भाजपा नीत सरकार के मंत्री दीपक धवलीकर ने कह दिया कि पीएम नरेन्द्र मोदी को लोग समर्थन करेंगे तो भारत हिन्दू राष्ट्र बन सकता है. इतना कहने पर जब मीडिया और विपक्षी राजनैतिक दलों ने धवलीकर को घेरना प्रारम्भ किया तो उनकें बचाव में गोवा के मुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा उतर आये. फ्रांसिस डिसूजा ने बेहद बौद्धिक और साहसिक व्यक्तव्य देकर अपनी मिट्टी का कर्ज उतारने का सराहनीय प्रयास किया कि मैं एक ईसाई हिन्दू हूं और यह राष्ट्र पहले से ही एक हिन्दू राष्ट्र है! डिसूजा के इस व्यक्तव्य के बाद तो जैसे मीडिया, कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने तलवारें ही खींच ली. इस मुद्दे पर कांग्रेस सहित सभी विपक्षी नेताओं ने परम्परा से एक कदम आगे जाकर राजनीति को शर्मसार किया और बाकायदा सार्वजनिक तौर पर गोवा चर्च को परामर्श दे डाला कि चर्च डिसूजा के ईसाई हिन्दू होने पर स्पष्टीकरण मांगे और उन्हें धर्म भ्रष्ट घोषित कर दे. सेकुलर तो सदा कि तरह हावी होने का प्रयास करते दिखे किन्तु इस मुद्दे पर टीवी और अन्य बहसों चर्चाओं में भाजपा के नेता रक्षात्मक भूमिका में आकर बैकफूट पर सरकते दिखने लगे तो आश्चर्य हुआ. शह पाकर गोवा चर्च के एक फादर ने सार्वजनिक बयान दिया कि हिन्दू राष्ट्र का स्वप्न देखने वाले इन दोनों नेताओं पर सरकार को कार्यवाही करना चाहिए और इस देश से इन्हें निष्काषित कर दिया जाना चाहिए!! प्रश्न यह है कि यह हिन्दू राष्ट्र की अवधारणा है क्या? इस देश के प्रधानमन्त्री निर्वाचित हो चुके नरेन्द्र मोदी ने पिछले वर्ष ही सार्वजनिक सभा में स्वयं को हिन्दू राष्ट्रवादी घोषित किया था. नरेन्द्र मोदी ने समय समय पर उनकी स्वयं की धर्मनिरपेक्षता की परिभाषा को भी देश के सामनें रखा और बताया है उनकें लिए धर्मनिरपेक्षता या किसी अन्य सिद्धांत का एक ही मतलब है- नेशन फर्स्ट – राष्ट्र सर्वोपरि. भाजपा या आरएसएस का  यह हिन्दू राष्ट्र का विचार कोई नया नहीं है बल्कि पांच हजार वर्षों के इतिहास से प्रवाहित होकर हम तक आता हुआ इस देश की मिट्टी का मूल विचार है. यह इस देश के आदर्श पुरुष स्वामी विवेकानंद के मुखारविंद से इस प्रकार उच्चारित होता हुआ भी आया है कि “हिंदू होने का मुझे अभिमान है. हिंदू शब्द सुनते ही शक्ति का उत्साहवर्धक प्रवाह आपके अंदर जागृत हो तभी आप सच्चे अर्थ में हिंदू कहने लायक बनते हैं. आपके समाज के लोगों में आपको अनेक कमियॉ देखने को मिलेंगी किन्तु उनकी रगों में जो हिंदू रक्त है उस पर ध्यान केन्द्रित करो. गुरु गोविंदसिंह के समान बनो. हिंदू कहते ही सब संकीर्ण विवाद समाप्त होंगे और जो जो हिंदू है उसके प्रति सघन प्रेम आपके अंत:करण में उमड़ पड़ेगा”. अब इस देश ने मोदी को स्पष्ट बहुमत के साथ प्र.म. बनाकर उनकी हिन्दू राष्ट्रवादी होनें की स्वीकारोक्ति को प्रमाणित भी कर लोकतांत्रिक ठप्पा भी लगा दिया. हिन्दू शब्द के इस अर्थ से संभवतः सेकुलरों को उनकें इस शब्द पर फैलाए वितंडावाद के अर्थ अनर्थ समझ में आ जायेंगे- “कृहिन्सायाम दुस्य्ते या सा हिंदू”  अर्थात जो अपने मन वचन कर्मणा से हिंसा से दूर रहे वह हिंदू है. यहां हिंसा की परिभाषा को भी समझें- जो मनसा,वाचा,कर्मणा से अपने हितों के लिये दूसरों को कष्ट दे वह हिंसा है. लोकमान्य तिलक ने इसी सन्दर्भ में कहा है असिंधो सिन्धुपर्यंत यस्य भारत भूमिका पितृभू पुण्यभूश्चेव स वै हिंदू रीति स्मृतः -अर्थात जो सिंधु नदी के उद्गम से लेकर हिंद महासागर तक रहते है व इसकी सम्पूर्ण भूमि को अपनी मातृभूमि, पितृभूमि, पुण्यभूमि मोक्षभूमि मानते हैं, वे हिंदू हैं. समय समय पर इस देश की न्यायपालिका ने भी दसियों प्रकरणों में कहा है कि हिन्दू साम्प्रदायिक शब्द नहीं है यह मात्र एक जीवन पद्धति है. तो क्या न्यायालय द्वारा हिन्दू शब्द का समझाया गया यह अर्थ भी इस देश के ये तथाकथित राजनैतिक दल नहीं मानेंगे ? मोदी ने स्वयं को हिन्दू राष्ट्रवादी कहकर इस देश के मूल विचार ही आगे बढ़ाया है और फ्रांसिस डिसूजा ने नरेन्द्र मोदी का ही अनुसरण किया है तो इसमें गलत क्या है? और इस देश को अपनी मातृभूमि और पितृभूमि मान लेनें भर की योग्यता से हिन्दू हो जानें वाली अहर्ता या शर्त में अनैतिक क्या है? हम क्यों फ्रांसिस डिसूजा की आलोचना होनें दें या करें?? पुराणों, शास्त्रों की बातों को ये तथाकथित नव बुद्धिजीवी और सेकुलर नजरअंदाज कर भी दें तो वे संयुक्त राष्ट्र संघ की इस परिभाषा से भारत के हिन्दू राष्ट्र होनें को विलग करके बताएं.  यूएनओ द्वारा दी गयी राष्ट्र की परिभाषा इस प्रकार है: “एक ऐसा क्षेत्र जहाँ के अधिकांश लोग एक सामूहिक पहचान के प्रति जागरूक हों और एक सामूहिक संस्कृति साझा करते हों”.  इस परिभाषा के अनुसार राष्ट्र के लिये आवश्यक घटक हैं: एक भौगोलिक क्षेत्र जिसमें कुछ लोग रहते हों, उस क्षेत्र के (अधिकांश) निवासियों की एक साझा संस्कृति हो,  उस क्षेत्र के (अधिकांश) निवासी अपनी विशिष्ट सामूहिक पहचान के प्रति जागरूक हों, और वहां एक पूर्ण स्वतंत्र राजनैतिक तंत्र स्थापित हो. अब ये सेकुलर बताएं कि इस परिभाषा से फ्रांसिस डिसूजा, या नरेन्द्र मोदी या आरएसएस के हिन्दू राष्ट्र के विचार किस प्रकार भिन्न है? किन्तु यहां यक्षप्रश्न यह भी है कि परम्परागत सूडो सेकुलरों या छदम धर्म निरपेक्षतावादी तो फ्रांसिस और धवलीकर के विरोध में दिखे ही साथ साथ भाजपा के कुछ नेता भी इन दोनों नेताओं के बयान से कन्नी काटते दिखने लगें. भाजपा को तो प्रसन्न और गौरान्वित होना चाहिए था कि कण्व ऋषि से लेकर दीनदयाल उपाध्याय तक के स्वप्नों को साकार करनें की ओर कदम बढ़ाता उसका एक लाल फ्रांसिस डिसूजा उसके आंचल में पल रहा है! भाजपा को इस हिन्दूराष्ट्र की बहस को अविलम्ब राष्ट्रव्यापी आकार देना चाहिए और यदि उसे कहीं असहज स्थिति का सामना करना पड़े तो अपनी मातृ संस्था आरएसएस का वैचारिक और सांगठनिक अवलंबन लेकर नरेन्द्र मोदी की इस स्वीकारोक्ति को राष्ट्रीय स्वीकारोक्ति में बदल देना चाहिए कि “मैं एक हिन्दू राष्ट्रवादी हूँ”. स्मरण रहे कि इस देश में ऐसा कहनें कि नव परम्परा यहीं मुरझा न जाए कि “मैं एक ईसाई हिन्दू हूँ.” यदि नरेन्द्र मोदी को इस देश की जनता से मिला स्पष्ट बहुमत का जनादेश भी भाजपा में आत्मविश्वास नहीं भर पाया तो हिन्दू राष्ट्र और इस जैसे न जाने कितने ही अन्य विषय दशकों के लिये पुनः इतिहास के पन्नों में शब्द बनकर रह जायेंगे!

8 Responses to “फ्रांसिस डिसूजा की क्षमा – हिन्दूराष्ट्र मुद्दे के वध-उत्सव का दुष्प्रयास”

  1. Dr.Dhanakar Thakur

    isme koi sandeh nahee ki disuja ne jokahaa vah saty thaa-prashn yah haai keekyaa ham hinmdu bhee gair hinduon ko hindu-musalaman/ isaaee manaane ko taiyar hai? yanee yah prakriya dono or sde badhnee chahiye.

    Reply
  2. Anil Gupta

    श्री गुगनानी जी ने इस विषय पर करोड़ों हिन्दुओं की भावनाओं को अभिव्यक्ति दी है. साधुवाद.भाजपा के दिल्ली में बैठे कुछ ‘बड़ों’ को दिसंबर १९६७ में कालीकट अधिवेशन में पंडित दीनदयालजी के भाषण को पढ़ लेना चाहिए, जिसमे उन्होंने स्पष्ट कहा था की इस देश में रहने वाला मुसलमान “मुहम्मदी हिन्दू” और ईसाई “ईसापंथी हिन्दू” हैं.इस दृष्टि से इस देश की चिति को जागृत करने की आवश्यकता है.अगर अब भी कुछ नेता क्षमायाचक बने रहते हैं तो ऐसा लगेगा की मोदी जी के आने से भी कुछ नहीं बदला है.मीडिया तो हिंदुत्व विरोधी है ही लेकिन लगातार अपनी बात को साहस पूर्वक कहते रहने से उन्हें देर सबेर बदलना ही होगा.मीडिया के हिन्दू विरोधी चरित्र के बारे में तो अरिंदम चौधरी जैसे सेकुलर भी अपनी चिंता जाहिर कर चुके हैं.

    Reply
    • guni.pra@gmail.com

      धन्यवाद. आभार अरिंदम चौधरी का विषय स्मरण करानें से मुझे कुछ अन्य भी ध्यान आ गया..

      Reply
  3. आर. सिंह

    आर. सिंह

    ऐसे इंडिया के जो दो या तीन हिंदी नाम हैं,वे क्या दर्शाते हैं?पहला नाम भारत है.इससे तो कुछ सिद्ध नहीं होता,क्योंकि यह एक प्राचीन राजा के राज का नाम है.वह राज कहाँ तक फैला हुआ था,इसका भी कोई ठिकाना नहीं .सबसे प्रचलित हिंदी नाम हिन्दुस्तान है यानि वह देश जहाँ हिन्दू रहते हों या हिन्दुओं का देश. अब बात आती है कि,हिन्दू कौन हैं? क्या वे एक ख़ास धर्म या मजहब को मानने वाले हैं या वे किसी ख़ास भू भाग के निवासी हैं,जिनका रहन सहन या संस्कृति एक है? इस पर प्रवक्ता में पहले भी बहस हो चुकी है.फ्रांसिस डीसूजा जब यह कहते .हैं कि हिंदुस्तान में रहने वाले सब हिन्दू हैं यानि सब हिंदुस्तान के निवासी हैं तो इसमे गलत क्या है?यह तो हम सनातनियों की यह हठधर्मिता है,जिसके चलते हमने हिन्दू शब्द को कालांतर में अपने कब्जे में कर लिया.

    Reply
  4. बीनू भटनागर

    भले ही विद्वानो के अनुसार हिन्दू एक गैर साँप्रदायिक शब्द हो पर सामान्य अवधारणा तो यही है कि हिन्दू एक धर्म है।पहले से ही हिन्दू और मुसलमानों के बीच नेता और राजनैतिक पार्टियाँ इतनी कटुता भर चुके हैं, जिसका परिणाम मुज़्जफ़रनगर और हाल मे सहारनपुर मे देखने को मिला, इसलियें इस तरह की बयानबाज़ी से बचना चाहिये।
    जहाँ तक धर्म का सवाल है सभी धर्म संस्कृति ही हैं, जीवन जीने के तरीक़े हैं क्योंकि ईश्वर या अल्लाह एक ही शक्ति के नाम हैं, क्या फर्क पड़ता है कि कोई नमाज़ पढ़े या आरती करे

    Reply
    • Shekhar

      फर्क पड़ता है मैडम. गाय को माँ मानने और गाय की बलि देने में बहुत फर्क है.
      एक कहता है कि कण कण में भगवान है, हर व्यक्ति में ईश्वर का अंश है, दूसरा कहता है कि उसकी किताब और विचारधारा को नहीं मानने वाला काफिर आदि को या तो ठीक कर दो या तलवार के घाट पहुंचा दो.

      असलियत ये है कि ये सारी खुशामद की चाशनी में डूबी हुई झूठी बातें केवल हिन्दुओं को बेवक़ूफ़ बनाने के लिए है, जो आप भी जानती और मानती होंगी….

      Reply
    • Dr Ranjeet Singh

      “ईश्वर या अल्लाह एक ही शक्ति के नाम हैं”, ऐसा आपने कह तो दिया परन्तु कैसे; यह भी तो बताना चाहिये था। क्या मुसल्मान ऐसा कहते/ मानते हैं? ईसायी स्वीकार करते हैं?

      गान्धी जी ने हिन्दुओं से ‘ईश्वर अल्लाह तेरे नाम’ गंवा तो दिया; परन्तु क्या ईसायी मुसल्मानों ने भी गाया, स्वीकार किया, माना? चर्चों मस्जिदों में कहा, घोषित किया? कुरान बाईबल अनुसार ऐसा कहना/ कह सकना क्या कभी सम्भव है/ हो सकता है?

      हिन्दु तो ‘सर्वे सुखिनः सन्तु’ ऐसी प्रार्थना करते देखे सुने जाते हैं। परन्तु क्या कभी मुसल्मान ईसायी भी?

      डा० रणजीत सिंह (यू०के०)

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *