More
    Homeपर्यावरणवैश्विक कोयला संयंत्र क्षमता में दर्ज हुई 13% की गिरावट

    वैश्विक कोयला संयंत्र क्षमता में दर्ज हुई 13% की गिरावट

    एक ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक़ दुनिया भर में कोयला आधारित ऊर्जा के लिए उदासीनता बढ़ रही है। स्थापित किए जा रहे कोयला पावर प्लांट्स में भी गिरावट दर्ज की जा रही है।
    यह तथ्य ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर की वार्षिक ‘बूम एंड बस्ट’ रिपोर्ट में सामने आए हैं। इस वार्षिक रिपोर्ट में वैश्विक स्तर पर चल रहे कोयला बिजली प्लांट्स के बेड़े में वार्षिक वृद्धि या कमी को देखा जाता है।
    ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर की इस आठवीं रिपोर्ट के अनुसार, 2021 में वैश्विक स्तर पर विकासशील कोयला संयंत्र क्षमता में गिरावट आई है।
    रिपोर्ट में पाया गया है कि 2015 के बाद पहली बार 2020 में बढ़ने के बाद, कुल विकासशील कोयला संयंत्र क्षमता में पिछले साल 13% की गिरावट हुई और वो घटकर 525 गीगावाट (GW) से 457 GW हो गई।
    साथ ही, जहां पहले 41 देशों में कोयला संयंत्र क्षमता विचारधीन थी, वो जनवरी 2021 में
    कम होकर 34 देशों तक सिमट गयी है। विशेषकर चीन, दक्षिण कोरिया और जापान ने अन्य देशों में नए कोयला संयंत्रों के वित्तपोषण को रोकने के लिए प्रतिज्ञा की, लेकिन संयुक्त रूप से बाकी देशों की तुलना में अधिक कोयला क्षमता को चालू कर, चीन ने नए कोयला संयंत्रों के घरेलू विकास में सभी देशों को पीछे छोड़ दिया।
    ध्यान रहे कि इस महीने की जलवायु परिवर्तन पर महत्वपूर्ण अंतर सरकारी पैनल (आईपीसीसी) (IPCC) की रिपोर्ट से पता चला है कि नए कोयला संयंत्रों को समायोजित करने के लिए कोई कार्बन बजट नहीं बचा है, और वैश्विक तापमान वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस, पेरिस समझौते के अनुरूप, से नीचे सीमित करने के लिए कोयले के उपयोग को 2030 तक (2019 के स्तर से) 75% तक कम करने की आवश्यकता है।
    साल 2021 में, ऑपरेटिंग कोयले के बेड़े में कुल 18.2 GW की वृद्धि हुई, जो कोविड के बाद रिकवरी का नतीजा था।
    इस रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष कुछ इस प्रकार हैं:
    • वैश्विक स्तर पर, 45 GW की नई चालू क्षमता में से आधे से अधिक (56%) चीन में थी। चीन के बाहर, वैश्विक कोयला बेड़ा लगातार चौथे साल सिकुड़ गया, हालांकि 2020 की तुलना में धीमी गति से।
    • चीन में नई कमीशन की गई क्षमता (25.2 GW) शेष विश्व में लगभग 25.6 GW कोयला संयंत्र की सेवानिवृत्ति को ऑफसेट (की भरपाई) करती है।
    • जापान, दक्षिण कोरिया और चीन सभी ने नए अंतरराष्ट्रीय कोयला संयंत्रों के लिए सार्वजनिक समर्थन को समाप्त करने का संकल्प लिया, इसके बाद COP26 से पहले सभी G20 देशों ने प्रतिबद्धता जताई । इन वादों के साथ, नए कोयला संयंत्रों के लिए अनिवार्य रूप से कोई महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय सार्वजनिक वित्तपोषक नहीं बचा है।
    • 2021 में, सेवानिवृत्त होने वाली अमेरिकी कोयला क्षमता की मात्रा लगातार दूसरे वर्ष घटी।
    • यूरोपीय संघ के 27 सदस्य देशों में 2021 में रिकॉर्ड 12.9 GW सेवानिवृत्त हुए और जर्मनी (5.8 GW), स्पेन (1.7 GW), और पुर्तगाल (1.9 GW), में सबसे अधिक सेवानिवृत्ति देखि गयी। अपनी लक्षित 2030 फेज़-आउट डेट से नौ साल पहले, नवंबर 2021 में पुर्तगाल कोयला मुक्त हो गया।
    • 2015 में पेरिस समझौते पर हस्ताक्षर होने के बाद से पूर्व-निर्माण में कोयला संयंत्र की क्षमता में 77% की गिरावट आई है।
    “कोयला संयंत्र की पाइपलाइन सिकुड़ रही है, लेकिन नए कोयला संयंत्रों के निर्माण के लिए कोई कार्बन बजट नहीं बचा है। हमें अब रुकने की जरूरत है,” ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर के फ्लोरा चंपेनोइस ने कहा। उन्होने आगे कहा, “रहने योग्य जलवायु के लिए छोटे अवसर के लिए नवीनतम आईपीसीसी (IPCC) रिपोर्ट का निर्देश स्पष्ट है – 2030 तक विकसित दुनिया में नए कोयला संयंत्रों का निर्माण बंद करें और मौजूदा को सेवानिवृत्त करें, और बाक़ी दुनिया में भी ये इसके बाद जल्द ही हो।”
    आगे, सेंटर फॉर रिसर्च ऑन एनर्जी एंड क्लीन एयर की प्रमुख विश्लेषक लॉरी माइलीविर्टा ने कहा, “कई उभरती अर्थव्यवस्थाओं जैसे, भारत, वियतनाम, बांग्लादेश और मिस्र में सबसे बड़ी कटौती के साथ, नई कोयला आधारित क्षमता के लिए अपनी योजनाओं में कटौती की है। विकसित देशों ने नए चरणबद्ध लक्ष्यों और संयंत्र सेवानिवृत्ति की घोषणा की है।”
    चीन में, कोयले से चलने वाले नए बिजली संयंत्रों की योजनाओं की घोषणा जारी है। आदर्श रूप से, 2025 तक स्वच्छ बिजली उत्पादन बढ़ाने की सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं का मतलब है कि कोयले से चलने वाले बिजली संयंत्रों का उपयोग क्षमता बढ़ने पर भी कम हो जायेगा। लेकिन जब तक नई कोयला बिजली परियोजनाओं को और अधिक सख्ती से नियंत्रित नहीं किया जाता है, कोयले से चलने वाली बिजली की ओवर कैपेसिटी चीन के एनेर्जी ट्रांज़िशन को और कठिन और अधिक महंगा बना सकती है।
    E3G के लियो रॉबर्ट्स कहते हैं, “वैश्विक ऊर्जा बाजार पर यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के परिणामस्वरूप प्रभावों ने केवल वही उजागर किया है जो हम पहले से जानते थे – नए कोयले से चलने वाले बिजली स्टेशनों का निर्माण एक महंगी ग़लती है। जैसा कि इस विश्लेषण से पता चलता है, दुनिया भर के कई देशों ने इसे महसूस किया है और नई कोयला बिजली परियोजनाओं से मुंह मोड़ लिया है, लेकिन कई अन्य को अभी तक ऐसा करना बाक़ी है। वे देश जो अभी भी 2022 में नए कोयला बिजली स्टेशनों पर विचार कर रहे हैं, वे खुले तौर पर उपभोक्ताओं के लिए उच्च ऊर्जा लागत, महंगी फंसी हुई संपत्ति के आसन्न खतरे और एक अर्थव्यवस्था को शक्ति देने के लिए जीवाश्म ईंधन पर निर्भर होने के साथ आने वाली ऊर्जा असुरक्षा को स्वीकार कर रहे हैं।”

    निशान्त
    निशान्त
    लखनऊ से हूँ। जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण संरक्षण के मुद्दे को हिंदी मीडिया में प्राथमिकता दिलाने की कोशिश करता हूँ।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    * Copy This Password *

    * Type Or Paste Password Here *

    12,262 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress

    Captcha verification failed!
    CAPTCHA user score failed. Please contact us!

    Must Read