हरिद्वार और ऋषिकेश

0
172

-बीनू भटनागर-
haridwar

उत्तराखण्ड का द्वार हरिद्वार,
यहां आई गंगा पहाड़ों के पार।
पहाड़ों के पार शहर ये सुन्दर।
सुन्दर शहर उत्तराखण्ड का मान।
मंसादेवी, चंडीदेवी के मन्दिर सुन्दर,
मंदिर का रास्ता बन गया है सुगम,
केबल कार की यात्रा अति मनोरम।
हर की पौड़ी शहर का मान,
गंगा की आरती, गंगा की भक्ति,
ऊपरी गंगा नहर और गंगा,
हरिद्वार का बनी है अभिमान।
तैरते हैं यहां प्रज्जवलित दीप हर शाम।
आयुर्वेद्यशाला पंतजलि संस्थान,
गुरुकुल कांगड़ी यहां विद्यमान।
हरिद्वार के निकट ही शहर ऋषिकेश,
आश्रमों में साधुओं का होता प्रवेश।
विशाल झूला सा पुल झूला लक्ष्मण,
राम के नाम का भी झूला विलक्षण।
युवा पर्यटकों का भी मन मोहे है ऋषिकेश,
डेरों में सब रहें यहां नदी के तट पर,
नदी में राफ़्टिग करें जी भर कर।
यहां से ही शुरू होती शुभ यात्रा,
गंगा की चारधाम तीर्थयात्रा।
गंगोत्री, जमनोत्री, केदारनाथ,
औ’ बद्रीनाथ की यात्रा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here