हे हंसवाहिनी माँ

0
202

हे हंसवाहिनी माँ
हे वरदायिनी माँ

अज्ञान तम से हूँ घिरा
अवगुणों से हूँ मैं भरा
सुमार्ग भी ना दिख रहा
जीवन जटिल हो रहा

ज्योति ज्ञान की जलाकर
गुणों की गागर पिलाकर
सत्पथ की दिशा दिखाकर
जीवन सफल बना दो माँ

हे हंसवाहिनी माँ
हे वरदायिनी माँ

तू ही संगीत तू ही भाषा
तुम ही विद्या की परिभाषा
तेरी शरण में जो भी आता
बुद्धि की निधि वो है पाता

विनती सुनो माँ भारती
लेकर पूजा की आरती
तुझे संतान पुकारती
प्यार से निहार लो माँ

हे हंसवाहिनी माँ
हे वरदायिनी माँ

✍️ आलोक कौशिक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here