लेखक परिचय

श्‍यामल सुमन

श्‍यामल सुमन

१० जनवरी १९६० को सहरसा बिहार में जन्‍म। विद्युत अभियंत्रण मे डिप्लोमा। गीत ग़ज़ल, समसामयिक लेख व हास्य व्यंग्य लेखन। संप्रति : टाटा स्टील में प्रशासनिक अधिकारी।

Posted On by &filed under दोहे, साहित्‍य.


corruptionLIFE MISERABLE हुई, INCREASING है RATE।

GODOWN में GRAIN है, PEOPLE EMPTY पेट।।

 

JOURNEY हो जब TRAIN से, FEAR होता साथ।

होगा ACCIDENT कब, मिले DEATH से हाथ।।

 

इक LEADER SPEECH का, दूजा करे OPPOSE।

दिखती UNITY जहाँ, PAY से अधिक PRAPOSE।।

 

आज CORRUPTION के प्रति, कही न दिखती HATE।

जो भी हैं WANTED यहाँ, खुला MINISTER GATE।।

 

आँखों में TEAR नहीं, नहीं TIME पे RAIN।

सुमन की LIFE SAFE है, LOSS कहें या GAIN।।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *