ममता कैसे अलग करोगे- श्यामल सुमन

maaअलग अलग हैं नाम प्रभु के, प्रभुता कैसे अलग करोगे?

सन्तानों के बीच में माँ की, ममता कैसे अलग करोगे?

 

अपने अपने धर्म सभी के, पंथ, वाद और नारे भी हैं

मगर लहू के रंग की यारो, समता कैसे अलग करोगे?

 

अपने श्रम और प्रतिभा के दम, नर-नारी आगे बढ़ते हैं

दे दोगे आरक्षण फिर भी, क्षमता कैसे अलग करोगे?

 

जीने का अन्दाज सभी का, जिसको जैसी लगन लगी है

ठान लिया कुछ करने की वो, दृढ़ता कैसे अलग करोगे?

 

शुभचिन्तक हम आमजनों के, घोषित करते हैं अब सारे

मूल प्रश्न है सुमन आज कि, रस्ता कैसे अलग करोगे?

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: