लेखक परिचय

कनिष्क कश्यप

कनिष्क कश्यप

स्वतंत्र वेब लेखक व ब्लॉगर

Posted On by &filed under प्रवक्ता न्यूज़.


तारीख़ों के पन्नों मे गुजरे वो ख्वाब
आंखो की गहराई में महसूस करता हूँ
दिन के उजलों मे अन्धेरों के बीच
खुद को दफ़न सा मह्सूस करता हूँ
माथे पर उभरती लकीरें शिकन की
कुछ कुछ तुम सी लगतीं हैं
पिघलती ये तहरीरें मन की
कुछ कुछ तुम सि लगतीं हैं

परत दर परत बिछी उम्मीदें
झुठलातीं हैं हर शिकन माथें पर
देखों न, ये किस्मत की लकीरों ने
तेरी तस्वीर रची हैं हाथों पर
हर आती-जाती सासें मेरी
कुछ-कुछ तुम सी लगती हैं
पिघलती ये तहरीरें मन की
कुछ-कुछ तुम सि लगती हैं

मेरे पहले प्यार की याद मे. यह कविता मैनें 10वीं में लिखी थी।

they say you were mine....................

they say you were mine....................

One Response to “मेरे पहले प्यार की याद मे”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *