Home साहित्‍य कविता नए साल में

नए साल में

नए साल में बदलें हम अपने आपको
पूर्व के दोष- गुण–
सोचें- समझें —
तदनुरूप करें कार्य —
जीवन को नई ऊर्जा से भरें–
नई चेतना जगाएं–
नए साल में बहुत- कुछ करने का
संकल्प लेना होगा–
यह साल हर बार हमें
बहुत- कुछ सीखने को देगा।
नए- नए अवसर
नई-नई परिस्थितियाँ
जीवन के सुख-दुख
हर्ष- विषाद
नए मार्गों
और नूतन लक्ष्यों को
सफलतापूर्वक पार करते हुए
हमें जीवन- सत्य के साथ चलना होगा।
जीवन- सत्य, जो हमारे बेहद करीब है ।
हमारी बाहों में अठखेलियां कर रहा है वह
हमारे जीवन का लक्ष्य–
हमारे आसपास फैला संसार–
समस्त जड़- चेतन,
आबोहवा–
प्रकृति का सुरम्य वातावरण —
रास्ते की थकान,
घुटन,
चिंता और
किंकर्तव्यविमूढ़ मनःस्थितियां —
सब को झेलते हुए पार करना है।
नए साल में–
जीवन के खूबसूरत सपनों को
निज चिर प्रतिक्षित लक्ष्यों को
हर रोज सामने रखकर
पूरा करने के लिए अनवरत
साधनारत रहना होगा।
विगत साल की असफलताजन्य निराशाएं
भुलाने के साथ,
नए साल की खुशियां
हर रोज– अपने भीतर सजाकर रखना होगा।
जीवन का सत्य यह है
कि यदि हमारी इच्छाएं पूर्ण नहीं होती और
आकांक्षाओं पर पानी फिरने लगता है तब —
हमारे भीतर निराशा, हताशा, दुख- दर्द के
बादल का गहराने लगते हैं
जीवन को सफलता के साथ
नए ढंग से जीने के लिए
हमें अपने कर्तव्य- कर्म में लगे रहना होगा
हमारा कर्म,
हमारा प्रयास,
हमारी हर दिन की कोशिश,
हमारे भीतर की जिज्ञासा
हमारे भीतर का जुनून
लक्ष्य को पा लेने का पागलपन
यही सब–
हमें सफलता की ओर ले जाएगा…

हमारा सही लक्ष्य हो
सही गहरी और बौद्धिक सोच हो
प्रयासरत बने रहने का
जज्बा हो
हमारे भीतर इमानदारी पूर्वक
कर्म करने की जिजीविषा हो
अपना अनुभव,
अपनी ज्ञान-राशि ,
बुजुर्गों,
शिक्षकों,
गुरुजनों,
माता-पिताओं,
भाई- बहनों,
पड़ोसियों,
मित्रों
बंधु- बांधव,
सगे- संबंधियों का सुझाव,
उनका मार्गदर्शन–
सब मिलाकर हमें जरूर
और जरूर सफलता दिलाएंगे।
दूर करना होगा केवल भीतर की
निराशा–
हताशा-
घुटन-
दुःखानुभूति–
चिंता-
तनाव-
टेंशन-
अवसाद-
आलस्य-
ईमानदारी रहित जीवन- पद्धति-
और —
अनुशासनहीनता,
उद्दंडता,
उच्छृंखलता,
मर्यादा रहित चिंतन
और
कुत्सित विचारधारा का स्वभाव … !

पंडित विनय कुमार

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here