जर जमीन जोरू ना होते

जर जमीन जोरू ना होते,
इतने लड़ाई झगड़े ना होते।
भगवान इनको बनाकर पछताया
दुनिया में इतने मसले ना होते।।

जरूरत न होती तो इजाद ना होते
इजाद पर इतने खर्च ना होते।
अगर दुनिया में दोनों ना होते,
हम सब इतने दुखी ना होते।।

शादी न होती बच्चे ना होते,
बीवी से लड़ाई झगड़े ना होते।
बंदा शादी करके है पछताया,
शादी के बगैर काम चलते ना होते

जन्म न होता तो मृत्यु ना होती,
आत्मा का आवागमन ना होता।
अगर जन्म मृत्यु दोनों ना होते,
ये सृष्टि भी कभी की ना होती।।

कोरोना न होता मास्क ना बनते
वायरस न होता घर में ना रहते।
अगर फैलती न विश्व मै महामारी
लोग इतने ज्यादा परेशान ना होते

तेरा मेरा अगर प्यार ना होता
सरे आम इसका ज़िक्र ना होता।
करती न अगर वायदा तुम मुझसे
ये तेरा कभी मुझे इंतज़ार ना होता

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: