लेखक परिचय

शकुन्तला बहादुर

शकुन्तला बहादुर

भारत में उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ में जन्मी शकुन्तला बहादुर लखनऊ विश्वविद्यालय तथा उसके महिला परास्नातक महाविद्यालय में ३७वर्षों तक संस्कृतप्रवक्ता,विभागाध्यक्षा रहकर प्राचार्या पद से अवकाशप्राप्त । इसी बीच जर्मनी के ट्यूबिंगेन विश्वविद्यालय में जर्मन एकेडेमिक एक्सचेंज सर्विस की फ़ेलोशिप पर जर्मनी में दो वर्षों तक शोधकार्य एवं वहीं हिन्दी,संस्कृत का शिक्षण भी। यूरोप एवं अमेरिका की साहित्यिक गोष्ठियों में प्रतिभागिता । अभी तक दो काव्य कृतियाँ, तीन गद्य की( ललित निबन्ध, संस्मरण)पुस्तकें प्रकाशित। भारत एवं अमेरिका की विभिन्न पत्रिकाओं में कविताएँ एवं लेख प्रकाशित । दोनों देशों की प्रमुख हिन्दी एवं संस्कृत की संस्थाओं से सम्बद्ध । सम्प्रति विगत १८ वर्षों से कैलिफ़ोर्निया में निवास ।

Posted On by &filed under कविता, साहित्‍य.


नक्सलियों की हैवानियत

नाम “कन्हैया” पाकर समझा, मैं हूँ कृष्णकन्हैया ।
नहीं समझ पाया ले डूबेगा , निज जीवन-नैया ।।
” कान्हा ने जब उठा लिया था, गोवर्धन पर्वत को ।
मैं भी अब उखाड़ फेकूँगा ,इस मोदी शासन को ।।”
जैसे क्षमा किये कान्हा ने , दुष्ट वचन शिशुपाल के ।
मोदी भी हैं क्षमा कर रहे, इस देशद्रोही “कुमार” के ।।
पा सहयोग कौरवों का ये, बड़बोला बन गया है आज ।
मुँह के बल कल गिर जाएगा, कर न सकेगा कोई काज।।
अरे मूढ़ ! तू सँभल जा अब भी ,मर्यादा को अपनी जान ।
कौरव और पांडव की कर ले , अपनी बुद्धि से पहचान ।।
मातृभूमि जिसमें जन्मा तू , बना क्यों उसका भंजक आज ।
मातु-पिता और विद्यामंदिर , की भी तो कुछ रख ले लाज ।।

शकुन्तला बहादुर

3 Responses to “कलयुगी कन्हैया”

  1. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    बहुत सुन्दर, है आप की कविता; बहन शकुन्तला जी।
    तत्काल अभिव्यक्ति की कविता,स्फुरणा अधिक,रचना कम होती है।
    यह स्फुरणा की कविता है।
    यह प्रमाणित करती है,आप की कविता।
    धन्यवाद

    Reply
  2. डॉ. मधुसूदन

    डॉ. मधुसूदन

    कितनी शीघ्रता से आपने कन्हैया पर दूसरी कविता रच दी यह अपने आप में सराहनीय है।
    बी. एन. गोयल जी की उक्ति का सत्त्यापन कर के आपने उसका प्रमाण इस कविता से, दे दिया।
    मणी जी की सराहनीय टिप्पणी भी आप के व्यक्तित्व को द्योतित करती है।
    सुन्दर कविता-शीघ्र अभिव्यक्ति।
    धन्यवाद

    Reply
  3. बी एन गोयल

    बी एन गोयल

    असम्भवं हेम मृगस्य जन्म, तथापि रामो लुलुभाये मृगायेः …..विनाश काले विपरीत बुद्धि

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *