कंगना के मन की पीड़ा

तुम मुझे यूं भुला ना पाओगे,
हां,तुम मुझे भुला ना पाओगे।
पंगा लिया है तुमने मुझसे
उसका खामियाजा तो उठाओगे।

यह देश है सभी वासियों का
अकेला नहीं हैं ये तुम्हारा।
महाराष्ट्र है उसका एक हिस्सा
क्यो बनाते हो अलग किनारा

सारा देश मेरे साथ खड़ा है,
तुम्हारे साथ कौन खड़ा है ?
चन्द गुंडों को साथ लिया है
ये काम न कोई बडा है।।

गिराया है तुमने मेरा ऑफिस,
दाऊद का गिराकर दिखाओ।
मर्द समझूंगी मै तुमको अब
अगर ऐसा करके दिखाओ।।

आते हैं सभी देशवासी यहां
महाराष्ट्र में रोजी रोटी कमाने,
सभी ने आगे बढ़ाया है इसको
क्यो बनते हो तुम इतने स्याने

महाराष्ट्र में महा जुड़ा है
इसे महान ही रहने दो।
क्यो नाम करते हो किरकिरा
इसको महाराष्ट्र बना रहने दो।

रखते हो बदले की भावना,
यह राजनीति ठीक नहीं है।
बदले की आग में जलते हो
ये तो बिल्कुल ठीक नहीं है।।

कोरोना से न लडकर तुम
कंगना नारी से लड़ रहे हो।
ये महाराष्ट्र के हित में नहीं है
जो तुम ये सब कर रहे हो।।

की है खराब इमेज बाल ठाकरे की
वे मज़े हुए राजनीतिज्ञ थे।
सभी हिन्दुओं को साथ लेकर
क्या तुम इससे अनभिज्ञ थे ।

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: