More
    Homeस्‍वास्‍थ्‍य-योगमानसून के मौसम में रखें अपना ख़ास ख्याल

    मानसून के मौसम में रखें अपना ख़ास ख्याल

    -सरफ़राज़ ख़ान

    नई दिल्ली. मानसून के दौरान शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता में कमी हो जाती है। इसलिए इससे कई तरह की बीमारियां भी सामने आती हैं। मानूसन के दौरान होने वाली बीमारियां हैं- मलेरिया, डेंगू, चिकुनगुनिया, पीलिया, गैस्ट्रो इन्टेस्टाइनल संक्रमण जैसे टायफाइड व हैजा। इन बीमारियों के अलावा वायरल संक्रमण सेठंड व खांसी की शिकायत भी हो सकती है।

    हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ. के के अग्रवाल के मुताबिक़ चिकनगुनिया के मरीजों में जोड़ों में दर्द होता है, जिसमें अंग विषेश में खिंचाव के जरिए आराम मिलता है। डेंगू का अगर पर्याप्त उपचार नहीं करवाया गया तो यह एक से चार फीसदी लोगों में जानलेवा हो सकता है, लेकिन चिकनगुनिया जानलेवा नहीं होता है, लेकिन इसकी वजह से सालों तक जोड़ों में दर्द हो सकता है। डेंगू के उपचार में तरल पदार्थ लेना औरप्लेटलेट को फिर से हासिल करना होता है। अगर काफी मात्रा में तरल पेय दे दिया जाए तो जान बचायी जासकती है। मौत का खतरा आमतौर पर तब होता है जब बुखार उतर रहा होता है। डेंगू के मरीजों में एंटी फीवर मेडिसिन के दुरुपयोग से रक्तस्राव की समस्या हो सकती है।

    बारिश के पानी का जमा होना मच्छरों के पलने बढ़ने का रास्ता बनाता है। पीने के पानी का होना आम है। डायरिया और गैस्ट्रो इन्टेस्टाइल संक्रमणों से बचने के लिए जरूरी है कि साफ और शुद्ध पानी पियें।

    बारिश के दौरान गंदे पानी में टहलने से कई तरह के फंगल संक्रमण पैर व नाखूनों को निशाना बनाते हैं।खासकर मधुमेह रोगियों को अपने पैरों का विषेश ख्याल रखना चाहिए। हमेशा पैरों को साफ और सुखाकर रखें। गंदे पानी में चलने से बचें। जूते, मोजे और रेनकोट साफ और सूखे रखें।

    जहां पर अस्थमा रोगी रहते हैं, वे विशेष रूप से अपने घरों के आस पास काई को जमने न दें। अस्थमा रोगीफ्यूमिगेशन से परहेज करें। बारिश के दिनों में कीड़े जमीन के अंदर से आकर सब्जियों में अपनी पहुंच बनालेते हैं। कमजोर डाइजेस्टिव फायर के होने से गैस संबंधी समस्या हो सकती है। इसी वजह से इस मौसम मेंशादियां तक नहीं करनी चाहिए। लोगों को चाहिए कि वे हल्का भोजन लें। खाने में जौ, चावल और गेहूं लें। पानी को उबालकर इस्तेमाल करें। रोजाना अदरक और हरे चना खाना फायदेमंद साबित होते हैं। हमेशा ताजा, हल्का और गरम खाना ही खाएं। (स्टार न्यूज़ एजेंसी)

    सरफराज़ ख़ान
    सरफराज़ ख़ान
    सरफराज़ ख़ान युवा पत्रकार और कवि हैं। दैनिक भास्कर, राष्ट्रीय सहारा, दैनिक ट्रिब्यून, पंजाब केसरी सहित देश के तमाम राष्ट्रीय समाचार-पत्रों और पत्रिकाओं में समय-समय पर इनके लेख और अन्य काव्य रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं। अमर उजाला में करीब तीन साल तक संवाददाता के तौर पर काम के बाद अब स्वतंत्र पत्रकारिता कर रहे हैं। हिन्दी के अलावा उर्दू और पंजाबी भाषाएं जानते हैं। कवि सम्मेलनों में शिरकत और सिटी केबल के कार्यक्रमों में भी इन्हें देखा जा सकता है।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    * Copy This Password *

    * Type Or Paste Password Here *

    11,622 Spam Comments Blocked so far by Spam Free Wordpress

    Captcha verification failed!
    CAPTCHA user score failed. Please contact us!

    Must Read