खुशी और ग़म

1
200

नहीं लगा पाओगे
इसका अनुमान
कौन है जहान में
कितना परेशान

किसी के जीवन में
है कितनी खुशी
अंदाज़ा ना लगाना
देख उसकी हँसी

चाहत नहीं होती
फिर भी चाहना पड़ता है
ग़मों को छिपाकर
मुस्कुराना पड़ता है

बहते हैं उनके अश्रु भी
जो सुख में जीवन जीते हैं
दिखें ना आँसू जिनके
वो हर पल बहुत रोते हैं

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here