लेखक परिचय

कुमार सुशांत

कुमार सुशांत

भागलपुर, बिहार से शिक्षा-दीक्षा, दिल्ली में MASSCO MEDIA INSTITUTE से जर्नलिज्म, CNEB न्यूज़ चैनल में बतौर पत्रकार करियर की शुरुआत, बाद में चौथी दुनिया (दिल्ली), कैनविज टाइम्स, श्री टाइम्स के उत्तर प्रदेश संस्करण में कार्य का अनुभव हासिल किया। वर्तमान में सिटी टाइम्स (दैनिक) के दिल्ली एडिशन में स्थानीय संपादक हैं और प्रवक्ता.कॉम में सलाहकार-सम्पादक हैं.

Posted On by &filed under कविता.


-कुमार सुशांत-
shadow of a women

वक्त कैसा ये आया, खराब यार रे, वक्त कैसा ये,
सबकी नीयत यहां, है बेकार यार रे।

अपनी बहनों की इज्जत खतरे में है,
कैसा इंसा हुआ जा रहा यार रे।

गोरे आए गुलाम हमें कर गए,
उनकी राह क्यूं जाता है तू यार रे।

वो है नारी जो शक्ति का रूप है,
वही माता, बहन, भार्या यार रे।

अब से ठानो तू इनकी इज्जत करोगे,
मां भारती देगी, तुझे वरदान रे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *