आओ अपना नववर्ष मनाएं

0
304


आओ हम सब मिलकर अपना नववर्ष मनाएं।
घर घर हम सब मिलकर नई बंदनवार लगाए।

करे संचारित नई उमंग घर घर सब हम,
फहराए धर्म पताका अपने घर घर हम।
करे बहिष्कार पाश्चातय सभ्यता का हम,
अपनी सभ्यता को आज से अपनाए हम।
आओ सब मिलकर नववर्ष का दीप जलाए
आओ हम सब मिलकर अपना नववर्ष मनाए,
घर घर हम सब मिलकर नई बंदनवार लगाए।।

क्या कारण है हम अपना नववर्ष नहीं मनाते है,
केवल पाश्चातय सभ्यता का हम नववर्ष मनाते है।
रंग जाते है नई सभ्यता मे भूल गए अपने को।
रहे गुलाम अंग्रेजो के भूल गए अपने सपनों को।
आओ सब मिलकर इस सभ्यता की होली जलाए,
करे बहिष्कार इन सबका अपना नववर्ष मनाए।
आओ घर घर नववर्ष का हम सब दीप जलाएं।।

Previous articleयोगी जी ! यति नरसिंहानंद का सर कलम करने की धमकी देने वालों की गिरफ्तारी होनी चाहिए
Next articleलखनऊ की कथा के लिए मशहूर इतिहासकार योगेश प्रवीन नहीं रहे….
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here