पिघलता आर्कटिक और ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन डे

साल 2020 खत्म होने से पहले ही ऐतिहासिक बन चुका है। और इस ऐतिहासिक साल में एक यादगार दिन होगा सितम्बर 25 जिसे याद किया जायेगा ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन डे के नाम से। इस दिन, कोविड-19 के मद्देनज़र सभी सावधानियों बरतते हुए, दुनिया भर में फ्राइडे फॉर फ्यूचर के बैनर तले स्कूल हड़ताल आंदोलन होगा और दुनिया भर में बेहतर जलवायु की माँग रखते हुए प्रदर्शन होंगे।

लेकिन पिछले कुछ महीनों के दौरान, कोविड-19 महामारी ने कार्यकर्ताओं और आंदोलनकर्ताओं को विरोध प्रदर्शन के नए तरीके खोजने पर मजबूर कर दिया है। आखिर अब पैदल मार्च और भीड़ का हिस्सा बनना जनहित में सुरक्षित जो नहीं। और इसी क्रम में जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ इस आन्दोलन ने डिजिटल अवतार धारण कर लिया है। कल, मतलब 25 सितंबर को इस साल का पहला ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन डे होगा।

अपना बयान जारी करते हुए फ्राइडे फॉर फ्यूचर ने कहा कि हालात ऐसे बन रहे हैं कि पेरिस एग्रीमेंट के समझौते के तहत ग्लोबल मीन तापमान को 1.5C से कम रखना आगामी माह और सालों मे कठिन होगा। स्थिति मानव नियंत्रण से बाहर न हो इसके लिए अभी से क़दम उठाने होंगे। कोविड-19 के आगे जलवायु संकट छोटा नहीं हुआ है बल्कि यह वक़्त तो इसे प्राथमिकता देने का है। जब तक प्रकृति का दोहन होता रहेगा तब तक फ़्राइडे फ़ॉर फ्यूचर अपने आन्दोलन जारी रखेगा। चाहें सशरीर हो प्रदर्शन, या डिजिटल-लेकिन विरोध प्रदर्शन होगा ज़रूर कोविड-19 की स्थानीय परिस्थितियों को देखते हुए।

इस आन्दोलन पर फ्राइडे फ़ॉर फ्यूचर ,केन्या, के एरिक डेमिन कहते हैं, “महामारी ने स्पष्ट कर दिया है कि राजनेताओं के पास विज्ञान की मदद से शीघ्र और स्थायी क़दम उठाने की शक्ति है। लेकिन महामारी के दौरान भी जलवायु संकट पर लगाम नहीं लग पा रही है। स्थायी और न्यायपूर्ण तरीके से दुनिया भर में ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के लिए कोई उपाय नहीं किया गया है। अब महामारी से निपटने के लिए किए जाने वाले अरबों-डॉलर के निवेश पेरिस समझौते के अनुरूप होने चाहिए।”

एरिक की बात आगे ले जाते हुए फ्राइडेज़ फ़ॉर फ्यूचर, भारत, से दिशा रवि कहती हैं, “समस्या की गंभीरता तब समझ आती है जब अपने पर गुज़रती है। लाखों लोग अपना घर और जीवन यापन की आवश्यक चीज़ें खो रहे हैं। इसे अनसुना नहीं किया जा सकता। हमें ऐसे वैश्विक राजनेताओं की जरुरत है जो लालच की जगह मानवता को प्राथमिकता दें। अच्छी बात यह है कि अब युवा वर्ग पहले से ज़्यादा योजनाबद्ध और संगठित तरीक़े से संगठित हो रहा है।”

हो सकता है वर्तमान परिस्थितियों के चलते उठाए जा रहे क़दम वैसे न हों जैसे हो सकते थे, लेकिन अच्छी बात यह है कि दुनिया भर के युवा अब आवाज़ उठा रहे हैं एक बेहतर कल के लिए जहाँ हमारी आने वाली नस्लें बेहतर जीवन जी सकें।

आर्कटिक को खोना हमें बड़ा महंगा पड़ेगा: विशेषज्ञ
आज, 24 सितंबर को, संयुक्त राष्ट्र महासभा के उच्च-स्तरीय जलवायु शिखर सम्मेलन के 75-वें समिट से पहले, यूके क्लाइमेट चैंपियन नाइजिल टॉपिंग के साथ आर्कटिक वैज्ञानिकों के एक समूह ने आर्कटिक बर्फ के पिघलने से होने वाले नुकसान के मतलब समझाए। कैसे यह दिन-ब-दिन बत्तर होते जलवायु के प्रभावों की दास्तान बयान करते हैं । अध्ययन बताते हैं कि आर्कटिक को खोना हमें बड़ा महंगा पड़ेगा और ऐसा होना हमारे लिए दुखद खबर होगी। जहाँ एक ही सप्ताह में एक तरफ कैलिफोर्निया की वाइल्डफायर विनाश का रास्ता जला रहीं हैं और दुसरे तरफ ग्रीनलैंड की बर्फ की चादर का हिस्सा अलग हो गया है। यह साइबेरिया में तपती गर्मी, गर्मियों की शुरुआत में कनाडा के आइस शेल्फ के नुकसान, आदि सब इसका ह्प्रभावों का हिससा हैं। यह असंबंधित लगने वाली घटनाएँ असल में जुड़े हुई हैं, और जितना संभव हो उतना आर्कटिक समुद्री बर्फ और बर्फ की चादरों को बचाना हमें भविष्य के लिए सबसे सर्वोत्तम मौका देता है।

पैनल में शामिल क्लाइमेट रिसर्च सेंटर के डॉ जेनिफर फ्रांसिस वुडवेल, के अनुसार-आर्कटिक बहुत तेजी से बदल रहा है और गर्म हो रहा है। आर्कटिक की बर्फ और हिम (स्नो), जो सूरज से गर्मी को दर्शाते हैं, को खोने से हम पृथ्वी को अँधेरे में डाल रहें है और ग्लोबल वार्मिंग के मौजूदा प्रभावों को कम से कम 25% तक बत्तर कर रहे हैं। यह अतिरिक्त वार्मिंग समुद्र के स्तर में वृद्धि को तेज करती है, और वायुमंडल में अतिरिक्त कार्बन और मीथेन को जारी करते हुए, परमाफ्रॉस्ट थौ/पिघल को गति देती है। तेज़ आर्कटिक वार्मिंग ठंडी उत्तर और गर्म दक्षिण के बीच तापमान के अंतर को भी कम करती है। यह तापमान अंतर जेट स्ट्रीम को तेज़ करता है, हवा की एक तेज़ नदी जो उत्तरी गोलार्ध के चारों ओर मौसम का निर्माण और स्टीयरिंग करती है। एक छोटे तापमान के अंतर का अर्थ है कमजोर जेट-स्ट्रीम पश्चिमी हवाएं, जिसके कारण मौसम के रुख स्थिर हो जाते हैं, और लंबे समय तक रहने वाली मौसम की स्थिति जैसे सूखा, गर्मी की लहरें, ठंड की लहरें और तूफानी अवधि बन जाती है। मौसम से संबंधित चरम घटनाओं की आवृत्ति केवल 40 वर्षों की छोटी अवधि में तीन गुना हो गई है। हम ये और बिगड़ते देखेंगे क्योंकि बर्फ तेज़ी से पिघलती रहेगी।

प्रोफेसर जुलिएन स्ट्रोव, यूनिवर्सिटी ऑफ मैनिटोबा और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन – के अनुसार ग्रीनहाउस गैसों से होने वाली ग्लोबल वार्मिंग से पड़ने वाली भीषण गर्मी दुनिया की तबाही के ताबूत में एक और कील ठोकती है। समय के साथ हम उत्सर्जन को ट्रैक कर सकते हैं और यह देख सकते हैं कि आर्कटिक समुद्री बर्फ को पिघलाने के लिए प्रत्येक देश कितना जिम्मेदार है। उदाहरण के लिए 2019 में, चीन 30,000 वर्ग किलोमीटर, और अमेरिका 14,400 वर्ग किलोमीटर, समुद्री बर्फ के नुकसान के लिए जिम्मेदार थे। यह पिघलाव अभी भी वैश्विक समुद्र स्तर में वृद्धि में योगदान दे रहा है।

नाइजेल टॉपिंग, COP26 के लिए यूके हाई लेवल क्लाइमेट एक्शन चैंपियन ने कहा कि हम उस युग में प्रवेश कर चुके हैं जहां जलवायु परिवर्तन के प्रभाव यहां और अभी वास्तव में मौजूद हैं। 1.5 ℃ पर IPCC की विशेष रिपोर्ट ने समाज के सभी हिस्सों पर दिल दहलाने वाला जिस प्रभाव का ज़िक्र किया था वह आज सच होता नज़र आ रहा है । एक शून्य कार्बन उत्सर्जन के लक्ष्य की महत्वाकांक्षा महत्वपूर्ण है । हर देश के नेताओं को विज्ञान को गंभीरता से लेना चाहिए और अगले पांच से दस वर्षों में इस परिवर्तन को लेन की आवश्यकता है ताकि हम पेरिस के लक्ष्यों तक पहुंच सकें। लेकिन हमें उन प्रभावों को भी अपनाने की जरूरत है जिनसे हमने खुद को पहले से बाँध लिया है। नवंबर 2021 से पहले सरकारों और व्यवसायों और शहरों द्वारा किया गया प्रयास, COP26 जितना ही महत्वपूर्ण है। COP26 एक क्रैसेन्डो होना चाहिए, न कि एकमात्र क्षण जहां हम सरकारों से महत्वाकांक्षा, प्रतिज्ञा और परिवर्तन देखते हैं।

प्रोफेसर गेल वाइटमैन, एक्सेटर बिजनेस स्कूल के विश्वविद्यालय और आर्कटिक बेसकैंप संस्थापक – ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि : पूरी दुनिया मैक्रोन के साथ खड़ी थी जब इस खबर के जवाब में कि अमेरिका पेरिस समझौते से पीछे हट रहा है। डॉ। जेनिफर फ्रांसिस वुडवेल, क्लाइमेट रिसर्च सेंटर – आर्कटिक और नए जीवाश्म ईंधन बुनियादी ढांचे में प्रस्तावित एलएनजी पाइपलाइन पर प्रतिक्रिया:

जब आप चरम घटनाओं और जलवायु प्रभावों की बड़ी तस्वीर देखते हैं, तो हम पहले से ही 1 ℃ से थोड़े अधिक का सामना कर रहे हैं, और आर्कटिक में प्रस्तावित एलएनजी पाइपलाइन जैसी परियोजनाओं पर खर्च किए गए संसाधन और जीवाश्म ईंधन का समर्थन करने के लिए किसी भी बुनियादी ढांचे का निर्माण करना गलत दिशा में जा रहा

प्रोफेसर जुलिएन स्ट्रोव, मैनिटोबा विश्वविद्यालय और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन – विज्ञान आर्कटिक ने एक टिपिंग पॉइंट पार करने के विचार पर कहा कि हमने अगली आईपीसीसी रिपोर्ट के लिए शोध प्रस्तुत किया है जो दर्शाता है कि हम भविष्य के उत्सर्जन परिदृश्य के तहत गर्मियों में समुद्री बर्फ खो देंगे। लेकिन जितना संभव हो उतना संरक्षित और मरम्मत करना मुमकिन है। हमें न केवल शमन करने में, बल्कि वातावरण से कार्बन हटाने और बाद में जल्द से जल्द अभिनव करने की आवश्यकता है।

डॉ। जेनिफर फ्रांसिस वुडवेल, क्लाइमेट रिसर्च सेंटर – लोग और सरकारें इस विचार पर कैसे प्रतिक्रिया देते हैं कि आर्कटिक ने एक टिप्पिंग पॉइंट पार कर लिया है: एक टिपिंग पॉइंट का अर्थ है कि हम एक चट्टान से गिर जाते हैं और वापस ऊपर नहीं चढ़ सकते। लेकिन वास्तव में यह एक निरंतर परिवर्तन है। लोग पहचानने लगे हैं कि उनके अपने मोहल्ले उन तरीकों से बदल रहे हैं जिनके साथ उनका कोई अनुभव नहीं है। लोग जानते हैं कि चीजें सामान्य नहीं हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कहां रहते हैं, चाहे आप इस वर्ष अधिक ट्रॉपिकल/उष्णकटिबंधीय तूफान का सामना कर रहे हैं, या सूखे और गर्मी के परिणामस्वरूप होने वाली आग को देखते हुए, ये सब प्रभाव आर्कटिक में बदलावों से प्रभावित हैं। और जब तक हम इसे उलट नहीं सकते, पर हम परिवर्तनों की गंभीरता को कम कर सकते हैं।

Leave a Reply

%d bloggers like this: