लेखक परिचय

इक़बाल हिंदुस्तानी

इक़बाल हिंदुस्तानी

लेखक 13 वर्षों से हिंदी पाक्षिक पब्लिक ऑब्ज़र्वर का संपादन और प्रकाशन कर रहे हैं। दैनिक बिजनौर टाइम्स ग्रुप में तीन साल संपादन कर चुके हैं। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में अब तक 1000 से अधिक रचनाओं का प्रकाशन हो चुका है। आकाशवाणी नजीबाबाद पर एक दशक से अधिक अस्थायी कम्पेयर और एनाउंसर रह चुके हैं। रेडियो जर्मनी की हिंदी सेवा में इराक युद्ध पर भारत के युवा पत्रकार के रूप में 15 मिनट के विशेष कार्यक्रम में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ लेखक के रूप में जानेमाने हिंदी साहित्यकार जैनेन्द्र कुमार जी द्वारा सम्मानित हो चुके हैं। हिंदी ग़ज़लकार के रूप में दुष्यंत त्यागी एवार्ड से सम्मानित किये जा चुके हैं। स्थानीय नगरपालिका और विधानसभा चुनाव में 1991 से मतगणना पूर्व चुनावी सर्वे और संभावित परिणाम सटीक साबित होते रहे हैं। साम्प्रदायिक सद्भाव और एकता के लिये होली मिलन और ईद मिलन का 1992 से संयोजन और सफल संचालन कर रहे हैं। मोबाइल न. 09412117990

Posted On by &filed under राजनीति.


downloadइक़बाल हिंदुस्तानी

सपा,बसपा व कांग्रेस सरकारें सबका विकास करतीं तो मुस्लिमों का खुद    भला हो गया होता!

अगर कांग्रेस या सपा/बसपा जैसी सेकुलर मानी जानी वाली सरकारें सुशासन यानी आम आदमी के हित में ईमानदारी से काम करें तो फिर मुसलमानों का भला अपने आप ही हो जायेगा, मगर देखने में यह आता है कि इन सरकारों के पास अकसर विकास या सुशासन का कोई सुचिंतित एजेंडा ही नहीं होता जिससे ये अपने कार्यकाल में सपा यादवों के लिये और बसपा दलितों के लिये मुख्यतौर पर हर तरह से सत्तासुख के ख़ज़ाने खोलने का सीमा से बाहर जाकर भी प्रयास करती हैं।

चूंकि इनकों मुसलमानों के वोट भी सरकार बनाने के लिये ज़रूरी लगते हैं सो कुछ ऐसे कामों को भी ये सरकारें प्रमुखता से करने से ज्यादा दिखाने की कोशिश करती हैं जिससे यह संदेश जाये कि इनको मुसलमानों की बड़ी चिंता है। खुद कांग्रेस का भी यही दिखावा रहा है कि चाहे शिक्षा, रोज़गार और विकास का कोई ठोस प्रयास मुसलमानों के लिये वे करें या ना करें लेकिन यह अवश्य ही ख़याल रखा जाता है कि कौन कौन से ऐसे मौकें हो सकते हैं जिनपर छुट्टी घोषित कर, उनकी धार्मिक भावनाओं के पक्ष में बयान जारी कर और विवादित लेखक तस्लीमा नसरीन, सलमान रूश्दी व स्वीडिश कार्टूनिस्ट को प्रतिबंधित कर उर्दू, मुस्लिम यूनिवर्सिटी, पर्सनल लॉ, कश्मीर की धारा 370 की पैरवी जोरदार तीरके करके उनका दिल जीता जाये। सवाल यह है कि अगर किसी सरकार के राज में नीतीश कुमार की तरह सबका भला हो और खासतौर पर गरीबों का तो क्या मुसलमानों का भला अपने आप ही नहीं हो जायेगा?

फिर मुसलमानों को अलग से दिखावे के तौर पर दो चार लॉलीपॉप देकर हिंदूवादी भाजपा को मज़बूत होने से रोकना मुश्किल नहीं होगा। जिस बसपा ने कई बार भाजपा से सहयोग लेकर अपनी सरकार बनाई और कई बार भाजपा की बनवाई वह आज मुसलमानों को खुश करने के लिये कह रही है कि आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद पर रोक लगनी चाहिये। क्या मायावती नहीं जानती कि भाजपा आरएसएस का ही राजनीतिक चेहरा है। जब बसपा खुद अपना बहुमत लाकर सत्ता में थी तब उन्होंने संघ पर रोक क्यों नहीं लगाई? आज भी वह कोर्ट से मांग कर रही हैं ना कि यूपीए सरकार से जिसको वह सपोर्ट करके बहुमत की बैसाखी से टिकाये हुए हैं।

इसे ही तो कहते हैं कि हाथी के दांत खाने के और दिखाने के और। ऐसे ही सपा जिन मुसलमानों के एकतरफा सपोर्ट की वजह से आज पहली बार पूरे बहुमत से यूपी में राज कर रही है वह चंद ऐसी योजनाएं और बयान जारी करके भाजपा और संघ परिवार को मज़बूत होने का सुनहरा मौका दे रही है जिससे ऐसा लगता है मानो प्रदेश में मुसलमानों का ही एकक्षत्र राज चल रहा हो? जो थोड़े बहुत काम ऐसे हो रहे हैं जिनसे मुसलमानों को सीधा लाभ पहुंचता नज़र आ रहा है वे दिखावटी और प्रतीकात्मक ही ज्यादा हैं। आतंकवाद के झूठे आरोप में पकड़े गये मुसलमानों को रिहा करने का मामला यह बताता है कि पुलिस गैर मुस्लिमों को भी फर्जी तौर पर जेल भेजती है।

हमारी न्यायप्रणाली सुस्त होने की वजह से ऐसे निर्दोष लोगों की ज़िंदगी तबाह हो जाती है लेकिन इस मूल समस्या का कोई हल नहीं तलाश कर केवल मुस्लिम के नाम पर राजनीति हो रही है। सही मायने में तो मुलायम सिंह केे बाद सबसे वरिष्ठ सपाई होने के नाते आज़म खां को यूपी का सीएम बनाया जाना चाहिये था लेकिन कांग्रेस को खानदानी राज के लिये कोसने वाली सपा ने भी अखिलेष को केवल मुलायम का बेटा होने की वजह से ही मुख्यमंत्री बनाने में ज़रा भी देर नहीं की। एक तरफ भाजपा है जो मुस्लिम तुष्टिकरण और उनकी बढ़ती आबादी से देश के इस्लामी राष्ट्र बन जाने का प्रोपेगंडा करके हिंदुओं को डराने और भड़काने की साम्प्रदायिक राजनीति करके आज सत्ता की अपने बल पर दावेदारी के लिये खड़ी है तो दूसरी तरफ कांग्रेस है जो बार बार सच्चर कमैटी से लेकर रंगनाथ आयोग की सिफारिशों का सिर्फ ढोल बजाती रहती है जिससे ऐसा लगता है कि मुसलमानों के लिये कांग्रेस आसमान से तारे तोड़कर ला रही है।

इतना ही नहीं बाबरी मस्जिद से लेकर दंगों तक में कांग्रेस की जो दोगली भूमिका रही है वह आज किसी से छिपी नहीं है लेकिन वह नाटक ऐसा करती है मानो वह ही मुसलमानों की एकमात्र मसीहा हो जिससे भाजपा को हिंदू मसीहा बनने का मौका मिलता रहा है। अगर इतिहास देखा जाये तो महाराष्ट्र में शिवसेना, पंजाब में भिंडरवाला और कंेद्र में भाजपा को मजबूत बनाने में कांग्रेस का कारनामा साफ दिखाई पड़ता है। आखि़र बाबरी मस्जिद का ताला खुलवाकर कांग्रेस ने ही हिंदू राजनीति का जिन्न बोतल से बाहर निकला था जिसको सीढ़ी बनाकर भाजपा आज दो सीटों से 182 सीटों तक पहंुचकर दो बार केंद्र में सरकार बना चुकी है। शाहबानों मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलटकर कांग्रेस ने ही यह दिखाया कि मुसलमान कितने कट्टरपंथी हैं लेकिन हुआ क्या आज भी कोर्ट में ऐसे केस तय हो रहे हैं।

हज सब्सिडी के नाम पर कांग्रेस मुसलमानों को एयर इंडिया से महंगा हवाई सफर कराके लूट रही है और उल्टा उनको ही बदनाम किया जा रहा है कि वे सरकारी खर्च से अपना धार्मिक फर्ज पूरा कर रहे हैं। कांग्रेस का भ्रष्टाचार, घोटाले, महंगाई और दोनों वर्गों की साम्प्रदायिकता को समय समय पर बढ़ावा देने की गलत नीति की वजह से ही आज भाजपा को हिंदुओं का हमदर्द होने का मौका मिला है वर्ना सवाल यह है कि देश आज़ाद होने के बाद लगभग 50 साल तक राज करने वाली कांग्रेस ने रोटी, कपड़ा, मकान, शिक्षा, चिकित्सा से लेकर रोज़गार और सुरक्षा के नाम पर मुसलमान ही नहीं जनता को क्या दिया है?

मिसाल के तौर पर शबेबरात को दिल्ली में कुछ मुस्लिम नौजवानों का बाइक पर रेड लाइट क्रास कर हंगामा हो या मैट्रो के लिये खुदाई में किसी मस्जिद के ढांचे के निकल आने पर हाईकोर्ट की रोक के बावजूद वहां कब्ज़ा जमाना हो या फिर म्यामार और असम के मुस्लिम विरोधी दंगों के खिलाफ मंबई के आज़ाद मैदान में रैली के बाद मुस्लिम प्रदर्शनकारियों के अराजक हो जाने पर भी पुलिस का वोटबैंक की राजनीति के कारण चुप्पी साध जाना हो, ये मामले हिंदुओं को उत्तेजित और आक्रोशित करने के लिये इस्तेमाल होते हैं। हाल ही में मेंरठ के छीपी टैंक क्षेत्र में आजकल मुसलमानों का सड़क पर नमाज़ पढ़ना विवाद का विषय बना हुआ है। हालांकि यह विरोध संघ परिवार की तरफ से ही ज्यादा हो रहा है लेकिन सवाल यह है कि क्या मुसलमानों का ऐसा करना सही माना जा सकता है?

कुछ लोगों का कहना है कि जुमें या रमज़ान की तरावीह में लोगो की तादाद बढ़ जाने से कुछ समय के लिये ऐसा होता है तो इसमें कौन सा पहाड़ टूट पड़ा? पहले मुंबई में भी जुमें के दिन नमाज़ सड़क पर होने से रोड जाम होने पर शिवसेना ने महाआरती और तनाव बढ़ने पर कई बार दंगे हुए हैं। हमारा मानना है कि मुसलमानों को कोई ऐसा काम नहीं करना चाहिये जिससे आपसी भाईचारा या अमनचैन ख़तरे में पड़ने के साथ ही कानून व्यवस्था की समस्या खड़ी होती हो। हम या तो नई मस्जिद बनायें या फिर पुरानी को कई मंज़िला कर लें और यह मुमकिन ना हो तो कोई ख़ाली प्लॉट ख़रीदकर या किराये पर लेकर नमाज़ियों की बढ़ती तादाद का इंतज़ाम खुद कर सकते हैं क्योंकि हमारे किसी काम से किसी दूसरे को परेशानी नहीं होनी चाहिये चाहे वह मुसलमान हो या गैर मुस्लिम इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है।

ऐसे में पुलिस प्रशासन को भी सभी धर्मों के मामले में निष्पक्ष रूख़ अपनाना चाहिये लेकिन वह भी सरकार की साम्प्रदायिक और सेकुलर नीतियों से बंधा होता है। इसका सबसे वीभत्स नमूना बाबा रामदेव के अनशन के दौरान आधी रात को सोते हुए बच्चो और महिलाओं तक पर पुलिस का बर्बर लाठीचार्ज करना था जो हिंदुओं के दिमाग में सेकुलर दलों की विलेन वाली छवि और भाजपा के नरेंद्र मोदी की एकमात्र हीरो की इमेंज बनाता है।

चोटों पे चोट देते ही जाने का शुक्रिया,

 पत्थर को बुत की शुक्ल में लाने का शुक्रिया,

 तुम बीच में न आती तो कैसे बनाता सीढ़ियां,

 दीवारों में मेंरी राह में आने का शुक्रिया।।

7 Responses to “सेकुलर दलों की अल्पसंख्यक राजनीति भाजपा का खादपानी?”

  1. RTyagi

    मुसलमान आज़ादी के बाद भी कभी हिंदुस्तान को अपना देश समझ ही नहीं पाए …सदा हर चीज़ को शक कि दृष्टि से देखना, भय के कारण प्रतिरोधवश हमले करना, अवैध कब्ज़े करना, गलत कर उसको सही साबित करने कि जिद, आधुनिक शिक्षा को गले ना लगाना, धार्मिक मामलो में अतिसंवेंदंशील होने का प्रदर्शन (बिना तह में जाये अफवाहों को सुन उन पर गलत प्रतिक्रिया देना, कानून और संवेधानिक प्रतीकों का सम्मान ना करना) और एकतरफ़ा धर्मनिरपेक्षता कि अपेक्षा करना येही हिंदू मुस्लिम एकता में सबसे बड़ी बाधक है… जब तक शिक्षा का प्रचार प्रसार कर अपनी सोच और विचारधारा को

    क्या आपने किसी भी धर्म निरपेक्ष मुसलमान के मुखारविंद से केदारनाथ त्रासदी में मरे लोगों के लिए संवेदना सुनी या पढ़ी..? क्या किसी भी मुस्लिम पंथी पार्टी ने वहाँ के लोगों के लिए कोई आर्थिक सहयोग या श्रमदान कि घोषणा कि ???

    नहीं, क्योंकि उनकी नज़र में यह हिन्दुवाद होगा और उनके धर्म के विरोध में होगा ……धर्मनिरपेक्षता नहीं|

    वाह रे मेरे धर्मनिरपेक्ष और संवेदनहीन लोगों… अपने लिए तो बहुत चीखते चिल्लाते हो…

    Reply
  2. RTyagi

    काफी समय बाद इकबाल जी से लगभग ९०% सहमति ही प्रतीत हो रही है।

    अनियंत्रित मुस्लिम जनसँख्या और यहाँ कि जनता का बहुसंख्यको के प्रति आचरण पश्चिम प्रदेश को एक और मुस्लिम राष्ट्र बनाने कि ओर अग्रसर करता है… कोई भी सरकार या खुद मुस्लिम उलेमा जनसँख्या वृद्धि रोकने को कोई कानून या अपील करती नहीं दिखायी देती .. ऐसे में हिंदू जनता और बीजेपी का ऐसा सोचना वाजिब है| बरेली, मेरठ और हाल ही में कल देवबंद में हुए दंगे और हिंदू जनता को दबाने कि कोशिश इनका प्रमाण है ..

    धन्यवाद।

    Reply
  3. Anil Gupta

    भाई इक़बाल जी, आपने अपने लेख में आबादी का मुद्दा भी उठाया है.वैसे तो जिस रफ़्तार से देश की आबादी बढ़ रही है अगले पंद्रह साल में देश आबादी के मामले में चीन को पीछे छोड़कर 150 करोड़ से आगे निकल चूका होगा.और इस आबादी के लिए सारी बुनियादी जरूरतें पूरी करने के लिए धरती वहीँ की वहीँ रहेगी.अतः आबादी नियंत्रण के बारे में गंभीरता से विचार जरूरी है.और कानून के जरिये भी इसे लागू करने पर सोचना होगा.इस बारे में भी कृपया अपने प्रगतिशील विचारों को लिखने का कष्ट करें.

    Reply
  4. Anil Gupta

    भाई इक़बाल जी,आपका कहना ठीक है की अगर सभी सरकारें बिना भेदभाव के सबके हित में काम करें और सबके विकास की चिंता करें तो कोई समस्या नहीं होगी.”सबके लिए न्याय, तुष्टिकरण किसी का नहीं” ये नारा इसीलिए पैदा हुआ की कांग्रेस ने हमेशा मुसलमानों को पिछड़ा बनाये रखने की राजनीती की है लेकिन नारे उछाल कर या घोषणाएं करके या कानून बनाकर ऐसा आभास देती रही है की वोही मुसलमानों सच्ची हमदर्द है.यही स्थित मुलायम सिंह, लालू प्रसाद, और नितीश जैसे नेताओं की है.क्योंकि इनका मकसद मुसलमानों का भला नही है बल्कि फर्जी घोषणाएं करके उनके सामूहिक वोटों को थोक में हड़पना है.भाजपा भी ये जानती है.लेकिन चूँकि मुस्लमान एकजुट होकर संगठित ढंग से वोट करता है अतः राजनीतिक सफलता के लिए उनके लिए भी ये आवश्यक हो जाता है की वो जवाब में हिन्दू वोट बेंक को संगठित करने के लिए काम करें.वर्ना कौन नहीं जनता की अटल बिहारी वाजपेयी की सर्कार में ही मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए डॉ.मुरली मनोहर जोशी ने सबसे ज्यादा काम किया था. लेकिन क्या किसी मुस्लिम नेता ने कभी इसकी तारीफ करने की जहमत उठाई.ऐसे में ये खतरा लगता है की कल अगर भाजपा पूर्ण बहुमत से शासन में आ गयी और उसने भी मुसलमानों की उपेक्षा शुरू कर दी तो मुस्लमान पिछड़े के पिछड़े ही रह जायेंगे.दूसरी और अगर उन्हें आधुनिक शिक्षा देने के प्रयास किये गए तो उनके मदरसा सिस्टम का भगवाकरण का आरोप lagaya ja sakta है.

    Reply
  5. आर. सिंह

    आर.सिंह

    बेवाक विवेचन. अगर सब लोग हिन्दू मुसलमान की सीमा से ऊपर उठ कर ऐसा ही सोचने लगे तो फिर सारा झगडा ही ख़त्म हो जाये,पर तब ये भ्रष्ट राजनेता कहाँ जायेंगे ?कौन पूछेगा इन्हें? पर कब तक हम इनके हाथों के खिलौने बने रहेंगे?

    Reply
  6. mahendra gupta

    भा जा पा का राष्ट्रवाद शेष दलों के जीने का आधार बन गया है.इस तू तू मैं में आम जनता की समस्याएँ दफ़न हो गयी हैं,वह तो करह रही है और ये राष्ट्रवाद,धरम निरपेक्षता के झंडा बरदार अपनी रोटियां सेंकने में लगे हैं.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *