नववर्ष का अभिनन्दन

 अभिनन्दन  नव-वर्ष ,  
                तुम्हारा अभिनन्दन !!
  तुम उमंग-उत्साह लिये,
     जन जन में भर दो नवजीवन।।
       *
   सुख-समृद्धि के सावन-घन हों,
      बरसें  नित  आँगन आँगन ।
     स्वस्थ रहें, सब सक्रिय रहें नित,
       गतिमय कर दे मलय पवन ।।
         *
      सुयश प्राप्त हो सद्कार्यों से,
          गूँज  उठे  ये  नील गगन ।
     फूल ख़ुशी के सुरभित कर दें,
      जीवन  हो  नन्दन-कानन ।।
        *
     ज्ञान-वृद्धि हो , शान्ति विराजे,
         मन  बन  जाए  वृन्दावन ।
     अभिनन्दन नव- वर्ष,
                 तुम्हारा अभिनन्दन।।

Leave a Reply

%d bloggers like this: