जानिए …आखिर क्यों टूटा हुआ पलंग होने से  वैवाहिक जीवन में आती हैं प्रॉब्लम/परेशानियां….

वास्तु शास्त्र का महत्व आजकल बढ़ता जा रहा है। जिसकी वजह है वास्तु द्वारा बताए गए नियम हैं। वास्तुविद पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया की घर में ऐसी कोई चीज नहीं होनी चाहिए जो अनुपयोगी हो। साथ ही ऐसी चीजें भी जो टूट जाती हैं उन्हें भी तुंरत घर से बाहर कर देना चाहिए। क्योंकि ये चीजें आपकी तरक्की का रोकती हैं। चाहे आप कितने भी ज्ञानी क्यों न हों | वास्तु शास्त्र के नियम कहते हैं कि घर में ऐसी कोई भी चीज नहीं रखनी चाहिए जो अनुपयोगी हो।

 

घर यानि की हमारा निवास स्थान , हमारे लिए स्वर्ग समान है | इस घर में हम हमेशा खुश एवं तंदुरुस्त जीवन यापन के लिए,वास्तु के बारे में जानने की आवश्यकता होती  है | मानव की ग्रहस्थि  भले ही जितनी भी अच्छी हो अगर ग्रहस्थि का वास्तु ठीक न हो तो भाग्य आपके चौखट तक आ कर लौट जाती है | वास्तुविद पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया की  हर किसी की चाहत होती है कि उनके घर में, परिवार में सुख शांति समृद्धि खुशहाली बना रहे। इसके लिए इंसान हर जतन करता है। हर वो कोशिश करता है जिससे कि घर में पॉजिटिव एनर्जी का प्रवेश होता रहे और नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकले। वास्तु के जरिये भी इसी की जानकारी दी जाती है।

 

लेकिन इसके अलावा कुछ चीजें ऐसी भी हैं जो अगर टूट-फूट जाए तो उसे तुरंत घर से हटा देना चाहिए। अन्यथा देवी लक्ष्मी रूठ जाती हैं और धन हानि का सामना करना पड़ सकता है। वास्तुविद पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया की  टूटे-फूटे और बेकार बर्तन घर में जगह घेरते हैं, जिससे वास्तु दोष भी उत्पन्न होता है।  घर में रखा हुआ टूटा कांच आर्थिक नुकसान का कारण बनता है। साथ ही परिवार के सदस्यों को मानसिक तनाव का सामना करना पड़ता है।

 

—-वैवाहिक जीवन में सुख शांति के लिए जरूरी है कि पति-पत्नी के पलंग में ना कोई दरार हो और ना ही यह कहीं से टूटा हुआ हो। वास्तुविद पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया की यदि पलंग ठीक नहीं होगा तो पति-पत्नी के वैवाहिक जीवन में परेशानियां आ सकती हैं। इसलिए कभी भी किसी को टूटे हुए पलंग पे नही सोना चाहिए|
घर का फर्नीचर भी सही हालत में होना आवश्यक है।  वास्तु के अनुसार फर्नीचर में टूट-फूट अशुभ मानी जाती है। घर में वास्तु दोष होने से पैसों की कमी बनी रहती है, इसलिए इसका निवारण तुरंत करना चाहिए।

Leave a Reply

%d bloggers like this: