मौसम की हर असामान्य घटना जलवायु परिवर्तन का परिणाम नहीं होती

0
194

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने महाराष्ट्र और गुजरात समेत देश के कई हिस्सों में लू का अलर्ट जारी किया है। कोंकण क्षेत्र पर एक पश्चिमी विक्षोभ की उपस्थिति सहित कारकों के संयोजन के कारण अलर्ट जारी किया गया है, जिससे हवा के पैटर्न में बदलाव हो रहा है, और लंबे समय तक शुष्क मौसम बना हुआ है।

इसमें कोई संदेह नहीं है कि मौसम हमेशा एक जटिल और कभी-बदलने वाली प्रणाली रही है, जो प्राकृतिक और मानवजनित दोनों तरह के कई कारकों से प्रभावित है। हालाँकि, हाल के दिनों में, कई लोगों ने प्राकृतिक परिवर्तनशीलता के प्रभाव को नज़रअंदाज़ करते हुए जलवायु परिवर्तन को हर मौसम की विसंगति का श्रेय देना शुरू कर दिया है। 

जलवायु परिवर्तन एक गंभीर चिंता का विषय है, लेकिन यहाँ यह समझना महत्वपूर्ण है कि हर मौसम की घटना सीधे तौर पर इससे जुड़ी नहीं होती है।

जैसे फिलहाल हम एक बेहद गर्म फरवरी का अनुभव कर रहे हैं और तमाम लोग इसे एक गर्म होती दुनिया से जोड़ कर देख रहे हैं। लेकिन यदि विशेषज्ञों और उपलब्ध आँकड़ों पर भरोसा किया जाए, तो वर्तमान मौसम का पैटर्न, साल के इस समय के लिए, बिलकुल भी अप्रत्याशित नहीं है,। ऐसा इसलिए क्योंकि फरवरी का महीना सर्दियों और गर्मियों के बीच के बदलाव वाला महीना है। तापमान औसत से अधिक ज़रूर है, लेकिन फिर भी अभी तापमान इस अवधि के दौरान देखे जाने वाले तापमान के उतार-चढ़ाव की सामान्य सीमा के भीतर हैं। सरल शब्दों में कहें तो वर्तमान मौसम का पैटर्न अकेले जलवायु परिवर्तन के कारण ही नहीं है बल्कि इसकी वजह मौसम की प्राकृतिक परिवर्तनशीलता भी है।

इसलिए, मौसम की घटनाओं का मूल्यांकन करते समय विचार करने के लिए आवश्यक कारकों में से एक प्राकृतिक परिवर्तनशीलता है। यह जलवायु प्रणालियों में निहित उतार-चढ़ाव को दिखाता है, जिसके परिणामस्वरूप विषम मौसम पैटर्न हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, एल नीनो-दक्षिणी दोलन (ईएनएसओ) चक्र, जो एक प्राकृतिक महासागरीय और वायुमंडलीय घटना है, और वैश्विक मौसम पैटर्न को प्रभावित कर सकता है, और जिससे तापमान, वर्षा और वायुमंडलीय दबाव में महत्वपूर्ण परिवर्तन हो सकते हैं।

ऐसे ही एक अन्य उदाहरण है आर्कटिक दोलन (एओ), जो एक प्राकृतिक वायुमंडलीय परिसंचरण पैटर्न है जो उत्तरी गोलार्ध में मौसम के पैटर्न को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकता है। एओ के एक सकारात्मक चरण के दौरान, ध्रुवीय जेट स्ट्रीम मजबूत होती है जिससे यूरेशिया और उत्तरी अमेरिका में भीषण सर्दी होती है। इसके विपरीत, एक नकारात्मक एओ चरण के दौरान, जेट स्ट्रीम कमजोर हो जाती है, जिससे यह आगे दक्षिण में विसर्जित हो जाती है, जिससे उत्तरी गोलार्ध में सर्दी का मौसम अपेक्षाक्रत गर्म होता है।

बढ़ता वैश्विक तापमान मानवजनित जलवायु परिवर्तन का परिणाम ज़रूर है, लेकिन सर्दियों के महीनों के दौरान इन तापमानों में प्राकृतिक परिवर्तनशीलता के लिए उसे सीधे तौर पर जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।

ध्यान रहे कि कुछ मौसम संबंधी घटनाएं प्राकृतिक खतरों का भी परिणाम होती हैं, जैसे कि तूफान, बवंडर और भूकंप। जबकि वनों की कटाई, शहरीकरण, और खराब भूमि उपयोग प्रथाओं जैसी मानवीय गतिविधियाँ उनके प्रभावों को बढ़ा सकती हैं, इन प्राकृतिक आपदाओं की घटना को जलवायु परिवर्तन के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

इसलिए, कुल मिलाकर, जबकि जलवायु परिवर्तन एक गंभीर चिंता है जिस पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है, मौसम की घटनाओं का मूल्यांकन करते समय प्राकृतिक परिवर्तनशीलता और मानव-प्रेरित जलवायु परिवर्तन के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है। 

ऐसा करके, हम मौसम के पैटर्न की जटिलता को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं, प्राकृतिक आपदाओं के प्रभावों को कम कर सकते हैं और मानवजनित जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आवश्यक कदम उठा सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here