लेखक परिचय

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

प्रभुदयाल श्रीवास्तव

लेखन विगत दो दशकों से अधिक समय से कहानी,कवितायें व्यंग्य ,लघु कथाएं लेख, बुंदेली लोकगीत,बुंदेली लघु कथाए,बुंदेली गज़लों का लेखन प्रकाशन लोकमत समाचार नागपुर में तीन वर्षों तक व्यंग्य स्तंभ तीर तुक्का, रंग बेरंग में प्रकाशन,दैनिक भास्कर ,नवभारत,अमृत संदेश, जबलपुर एक्सप्रेस,पंजाब केसरी,एवं देश के लगभग सभी हिंदी समाचार पत्रों में व्यंग्योँ का प्रकाशन, कविताएं बालगीतों क्षणिकांओं का भी प्रकाशन हुआ|पत्रिकाओं हम सब साथ साथ दिल्ली,शुभ तारिका अंबाला,न्यामती फरीदाबाद ,कादंबिनी दिल्ली बाईसा उज्जैन मसी कागद इत्यादि में कई रचनाएं प्रकाशित|

Posted On by &filed under कविता, व्यंग्य.


मिले सड़क पर गिरगिट दादा

लगे मुझे दुख दर्द बताने|

बहुत देर तक रुके रहे वे

अपने मन की व्यथा सुनाने|

 

बोले ‘सदियों सदियों से मैं

सदा बदलता रंग रहा हूं|

दीवालों आलों खिड़की में,

इंसानों के संग रहा हूं|

 

रंग बदलने के इस गुण में ,

जगवाले मुझसे पीछे थे|

रंग बदलने के गुण सारे,

दुनियां ने मुझसे सीखे थे|

 

किंतु आजकल नेता अफसर,

इस गुण में मुझसे हैं आगे|

ह‌म तो हाय फिसड्डी हो गये,

बन गये मूरख और अभागे|

 

एक रंग जब तक मैं बदलूं,

अफसर‌ पाँच बदल देते हैं|

पकड़ूं एक पतंगा जब तक ,

नेता देश निगल लेते हैं|

 

बाबू शिक्ष‌क पटवारी तक,

रंग बदलने में माहिर हैं|

भीतर से सब काले काले,

तन पर रंग बहुत सुंदर हैं|

 

अभी अभी ही मंत्री जी ने,

पांच मिनिट में दस रंग‌ बदले|

पकड़ॆ गये घुटालों में तो,

घर ने रुपये करोंड़ों उगले|

 

रंग बदलने के ही कारण,

इंसानों का पतन हो गया|

रंग बदलने के गुण से ही,

भ्रष्टाचारी वतन हो गया|

 

किसी तरह से हे प्रभु मुझको,

मेरे गुण वापस दिलवा दो|

एक बार स्वयं रंग बदलकर,

नेताओं को सबक सिखा दो|

One Response to “गिरगिट‌ दादा-प्रभुदयाल श्रीवास्तव”

  1. binu bhatnagar

    बहुत अच्छी व्यंग कवता के लियें आभार और बधाई।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *