आधी आबादी के अस्तित्व से जुड़े प्रश्न

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवः। अर्थात जहां नारी की पूजा होती है वहां देवताओं का वास होता है। लेकिन क्या यह सच है? यदि हां तो फिर हमारे देश में इसे झुठलाया क्यों जा रहा है। क्योंकि सच्चाई तो इससे बेहद अलग है। इस तरह की धारणा को मानने वाले हमारे देश में नारी उपेक्षित है। वह पल-पल अपमान सहने को मजबूर है, अपनी आकांक्षाओं का गला घोंटने को विवश है, वह अपने अस्तित्व को भुला चुकी है।
आज हमारे देश में नारी यानी कि आधी आबादी की जो स्थिति है, उसे देखकर ऊपरी तौर पर जरूर कहा जा सकता है कि हमारे यहां नारी का विकास हो रहा रहा है, उसे उन्नति के पथ पर आगे बढ़ने के भरपूर अवसर उपलब्ध कराये जा रहे हैं, वह पुरुषों से कंधे से कन्धा मिलाकर चल रही है, क्या वाकई ऐसा है? कतई नहीं, प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से महिलाओं पर आज भी संकट बरक़रार है। वह आज भी अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है। आधी आबादी के विकास के बावजूद आज भी वह अपने अस्तित्व के संकट से जूझ रही है। आज भी उनके अस्तित्व को अपनी पहचान की दरकार है। यदि हम इतिहास के झरोखों में झाँकें तो पता चलता है कि जिस समय पश्चिमी समाज नारी पुरुष समानता की बात करता था, उससे कहीं पहले हमारे देश में नारी को पुरुषों से भी ऊंचा दर्जा प्राप्त था। पश्चिमी समाज में तो महिलाओं को स्थिति माँ, बहन और बेटी तक ही सीमित है लेकिन हमारे यहाँ नारी को देवी कहा जाता है। हमारे यहाँ सम्पूर्ण विश्व का पालन करने वाली धरती भी माँ स्वरूपा व पूजनीय है। हमारी संस्कृति में नारी को अर्द्धांगिनी कहा जाता है, अर्थात जिसके बिना पुरुष अधूरा है। हमारे यहाँ नारी की स्थिति काफी अच्छी थी परन्तु दुर्भाग्यवश समयांतर में इनकी स्थिति खराब होती गई और आज स्थिति यह है कि इन्हें अपने अस्तित्व को पहचान दिलाने के लिए भी संघर्ष करना पड़ रहा है।  देश की आधी आबादी की स्थिति बहुत ही दर्दनाक और खौफनाक होती जा रही है।पिछले कुछ वर्षों में महिलाओं के प्रति बढ़ती बर्बरता और अत्याचार के मामलों ने सोचने को विवश कर दिया है कि क्या सचमुच हम उसी भारतवर्ष में जी रहे हैं, जिसकी संस्कृति विश्व की सभी संस्कृतियों में श्रेष्ठ थी। जो देश सभी के लिए प्रेरणा स्रोत बना उसी महान राष्ट्र में मानवता को शर्मसार करने वाली घटनाएं हो रही हैं। निर्भया और केरल की महिला डॉक्टर के साथ हुई घटनाएँ बर्बरता की पराकाष्ठा को बयां करती है, इस तरह की घटनाओं से नारी के अस्तित्व पर गहरा संकट मंडराने लगा है. इस तरह की घटनाएँ उसकी उन्मुक्त महत्त्वाकांक्षा को सीमित कर उसे भयपूर्ण जीवन जीने को विवश कर रही है। क्या देश की आधी आबादी को एक भयमुक्त वातावरण में जीवनयापन का कोई अधिकार नहीं? यदि है, तो फिर क्यों नहीं हम सभी अपनी आधी आबादी को बेहतर जीवन देने के लिए प्रयासरत हो पा रहे ?आखिर हमारे प्रयासों में कौन सी कमी है, जो पुरुष को नारी का सम्मान करने से रोकती है। स्त्री को देवी का रूप मानने वाली हमारी संस्कृति तो हमें उस जननी का सम्मान करना सिखाती है, तो फिर हम यह कौन सी संस्कृति का पालन कर रहे हैं, जो हमें उनके अस्तित्व को रौंदकर अपना पौरुषत्व सिद्ध करना सिखा रही है। दहेज़ व लेन-देन के नाम पर कुप्रथाओं को बढ़ावा देकर तथा लड़के के परिवार द्वारा लड़की के परिवार को हीन भावना से देखने की संस्कृति तो हमारी नहीं। हम सभी के जीवन के आदर्श भगवान श्रीराम के जीवन को देखें तो हम पाएंगे कि स्वयं राजा दशरथ ने राजा जनक के पैर छूकर उन्हें बड़ा सिद्ध किया, कन्यादान को महादान सिद्ध कर लड़की व उसके परिवार के अस्तित्व को सर्वोपरि महत्त्व दिया। फिर हम लोग कौन होते हैं किसी स्त्री के जीवन को दहेज़ व लेन-देन की कुप्रथाओं की भेंट चढाने वाले? क्या वाकई हम अपनी पुरातन संस्कृति का अनुसरण कर रहे हैं, एक बार विचार जरूर कीजिएगा। संस्कृति का रोना रोकर आधी आबादी के अस्तित्व को दरकिनार करने वाले कृपया एक बार अवश्य अपनी संस्कृति का गहन अध्ययन करें, फिर शायद मुझे कुछ कहने की आवश्यकता ही न रह जाए।  फ़िलहाल अपनी कुछ पंक्तियों के साथ एक माँ का दर्द आप सभी के साथ बांटकर अपने शब्दों को विराम देना चाहूँगी –  माफ कर देना मुझे
गर हो सके तो
क्योंकि मेरी लाडो
ये दुनिया नहीं है
तेरे लिए
यहां पग-पग
तेरी राहों पर
बिछे होंगे कांटे
तेरे पैदा होते ही
शुरू हो जाएगा
चारों ओर मातम।
जैसे-जैसे बड़ी होगी
तू मेरी रानी
शुरू हो जाएगी
तेरे जीवन में परेशानी
समाज नहीं देगा हक
तुझे कोई
गर मैं कोशिश भी करूं
तो भी नहीं
कर पाऊंगी तेरे साथ इंसाफ
हमारी इस अनोखी
दुनिया में पग-पग
आएंगी तेरी राह में
हजारों मुश्किलें।
तेरी मासूम मुस्कान
देखकर किसी के
भीतर का शैतान
जाग जाएगा
तेरी नन्हीं सी अठखेलियां
मेरी रातों की नींद उड़ाएगा
कैसे बचाऊंगी तुझे
दुनिया से
हर पल यही ख्याल
बैचेन कर जाएगा।
तेरे पढने-लिखने पर
भी ये समाज
कई पहरे लगाएगा
गर तू बढ़ गई जीवन
में आगे, तो देखकर
तेरी कामयाबी,
तेरे चरित्र पर भी
ये समाज हजारों
सवाल उठाएगा।
एक वक्त ऐसा भी
आएगा, जब तेरी
विदाई का मेरा मन
सपने संजोएगा।
दिल पर रखकर पत्थर
विदा मैं करूंगी तुझे लाडो
पर तब भी हर पल
मुझे तेरी सुरक्षा का
ख्याल सताएगा।
दहेज का लालची
ये समाज कहीं
तेरा अस्तित्व तो नहीं
रौंद जाएगा।
मेरी लाडो तेरा
पूरा जीवन इस समाज में
परेशानियों से घिर जाएगा।
इसलिए मेरी लाडो माफ
करना अभी के लिए मुझे
क्योंकि लाना इस जग में तुझे
होगा अपराध मेरा।
मैं इंतजार करूंगी
उस दिन का
जब समाज तेरे स्वागत में
बांहें फैलाएगा।
पता नहीं कितने दिन
महीने या साल लग जाएं
पर शायद वो दिन
कभी तो आएगा।
जब तू घूम सकेगी आजाद
इस समाज में
भर सकेगी अपनी
स्वछंद उड़ान।
जब चाहे खिलखिला सकेगी
पूरे कर पाएगी अपने अरमान
लाडो मेरी उस दिन तुझे मैं
जरूर दूंगी जीवन, पर अभी
तुझे करना ही होगा बलिदान।
माफ कर देना मुझे, पर बेटी
की राहें यहां नहीं आसान
नहीं देख सकती मैं तुझे
देते हुए हर पल इम्तिहान
इसलिए मांग रही हूं लाडो
तुझसे ये बलिदान।
माफ कर देना मुझे
माफ कर देना मुझे
याद रखना लाडो नहीं है
ये मेरे लिए भी आसान
पर फिर भी मांग रही हूं
तेरे हित के लिए बलिदान।

Leave a Reply

%d bloggers like this: