लेखक परिचय

रमेश पांडेय

रमेश पांडेय

रमेश पाण्डेय, जन्म स्थान ग्राम खाखापुर, जिला प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश। पत्रकारिता और स्वतंत्र लेखन में शौक। सामयिक समस्याओं और विषमताओं पर लेख का माध्यम ही समाजसेवा को मूल माध्यम है।

Posted On by &filed under टॉप स्टोरी.


-रमेश पाण्डेय-
ranbir-fake-encounter

तत्कालीन राष्ट्रपति की हत्या के प्रयास की साजिश का आरोप लगाकर पुलिस द्वारा एमबीए के एक मासूम और होनहार छात्र को पकड़कर फर्जी मुठभेड़ दिखाकर उसके शरीर में 29 राउंड गोलियां उतार देना यह इतना वीभत्स और हतप्रभ करने वाला कांड है कि मन-मस्तिष्क दहल जाता है। क्या यह संभव है कि इतना जघन्य कार्य सब इंस्पेक्टर के स्तर के अधिकारी कर डालें और उनकी पीठ पर उच्च अधिकारियों एवं नेताओं का हाथ न हो! दिल्ली सीबीआई अदालत ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए 18 पुलिसकर्मियों को फर्जी एनकाउंटर का दोषी करार दिया है और उम्र कैद की सजा सुनाई है। यह भी तब ही संभव हो पाया है जबकि मृतक युवक के परिजनों की हैसियत कम से कम इतनी तो थी कि वे बिना डरे मुकदमे की पैरवी कर सकें। हत्या वैसे ही जघन्यतम अपराध है और यदि यह अपराध पुलिसकर्मी करते हैं तो अपराध की जघन्यता और अधिक बढ़ जाती है। ऐसा करने वाले पुलिस अधिकारियों को बख्शा नहीं जाना चाहिए, क्योंकि पुलिस का काम आम नागरिक की हिफाजत करना है। वह कानून की रक्षा करने के लिए है उसे तोड़ने के लिए नहीं। छात्र रणबीर का कोई आपराधिक इतिहास नहीं था। वह और उसका परिवार उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के थे। रणबीर मेधावी छात्र था। वह देहरादून नौकरी के सिलसिले में गया था। घटना जुलाई 2009 की है। फैसला आ चुका है, सजा भी सुना दी गई है। यह सवाल अनुत्तरित सा ही है कि जब कोई आपराधिक इतिहास नहीं था तो पुलिस की इतनी बड़ी टीम ने रणबीर का एनकाउंटर क्यों किया! रणबीर के पिता का कहना है कि पुलिसकर्मियों ने मेडल के लालच में उनके मासूम बेटे की निर्मम हत्या की है। यह आसानी से हजम नहीं होता। वैसे यह सच है कि मेडल के चक्कर में फर्जी एनकाउंटर होते हैं। रणबीर को एनकाउंटर के पहले जिस दरिंदगी के साथ पीटा गया और मार-मार कर उसकी हड्डियां तोड़ दी गईं। इससे तो यही लगता है कि पुलिस को शक हो गया और यह जानकर कि उसका यहां कोई पैरोकार नहीं है उसकी ऐसी पिटाई के बाद फर्जी मुठभेड़ बताकर उसे मार दिया गया। बहरहाल, अब पांच साल बाद मामले का फैसला आया है। अपील उच्च न्यायालय में होगी। वहां से मामला फिर सर्वोच्च न्यायालय तक जाएगा। रणबीर के पिता को लगातार पैरवी करनी होगी। लेकिन व्यवस्था में फर्जी एनकाउंटर की गुजाइशों को जब तक समाप्त नहीं किया जाएगा समस्या का समाधान नहीं होगा।

One Response to “रणबीर का एनकाउंटर क्यों किया!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *