आरक्षण या सरक्षण

नारी ने नर को जन्म दिया
नर ने उस को बाजार दिया
जब चाहा उसका रेप किया
जब चाहा उसको मार दिया

ये नेता नहीं,नारी पिशाच है
जो नारी का शोषण करते है
अपनी काम वासना पूरी कर
पिता को जेल भिजवाते है

ये कैसी हमारी पुलिस व्यवस्था है
जहाँ नेताओ को संरक्षण मिलता है
निर्दोष व्यक्ति को बिना अपराध के
यूही दिन रात जेलों में ठूसा जाता है

ये कैसी हमारी न्याय व्यवस्था है
जहाँ नारी को न्याय नहीं मिलता है
धिक्कार है उस न्याय व्यवस्था को
जहाँ वर्षो तक एक केस चलता है

उन्नाव की नारी का केस देखो
जिसने सीएम तक गुहार लगाई थी
अपने पिता का बलिदान देकर भी
उसने कही भी सुरक्षा नहीं पाई थी

धिक्कार है उस चीफ मिनिस्टर को
जिसके राज्य में ऐसा होता हो
अपने झूठे दिए आश्वासनों को
वह कभी भी पूरा न करता हो

वह कहाँ गयी उनकी घोषणा
यूपी गुंडा राज रहित होगा
वह चले जाये इस राज्य से
वर्ना उनका स्थान जेल होगा

हम आरक्षण की बात करते है
सरक्षण की बात नहीं करते है
केवल अधिकारों की बात करते है
कर्तव्यो की बात क्यों नहीं करते है ?

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: