ऐलोपैथ पर आयुर्वेद के गंभीर दुष्प्रभाव

पतंजलि द्वारा कोरोना के ईलाज सम्बन्धी  आयुर्वेद दवा पर खूब घमासान मचा,अब वास्तव में तथ्य क्या हैं और भ्रम क्या है ?आम लोगो ने, खास कर गरीब मध्यम वर्ग को इस दवा से बेहद उम्मीद थी,क्योंकि पतंजलि का दावा उपचार की 100% गारेंटी ले रहा था, यह बात स्वाभाविक रूप से वास्तविकता से परे है, क्यों कि दुनियाँ में कुछ भी 100% नहीं होता, कुछ भी सम्पूर्ण नहीं हो सकता क्योंकि 100% सिद्धान्त में हो सकता है व्यवहार में नहीं ।
            खैर इस बात में कोई शक नही कि जबकि देश में कोरोना मरीजों की कुल संख्यां अबतक 10 लाख के पार पहुँच चुकी है और यह संक्रमण नित्य नये आयाम और कीर्तिमान बना रहा तो सभी की नजर उस उपचार की ओर आशान्वित हो जाती है जो कि हर आदमी की पहुँच के दायरे में हो । हमें यह बात नहीं भूलनी चाहिए कि यह “चीनी वायरस” देश में जैसे भी आया हो उसने सबसे बड़ा आघात निम्न वर्ग और मध्यम वर्ग पर किया है, खासकर गरीब,मजदूर, किसान और अन्य कामगारों के लिये रोजी रोटी जुटाना भी वर्तमान परिवेश में एक चुनौती बन गई है । 
अब ऐसे में घर में रहें या काम पर जायें इस दुविधा ने सभी को मानसिक पीड़ा में डाल दिया है ।
अब बात तथाकथित अभिजात्य वर्ग की करें तो इनकी अलग पीड़ा दिखती है, इसमें से अधिकांश लोग इसलिए परेशान हैं कि उन्हें घर में रहना पड़ रहा और सम्भवतः इस मौसम में वह विदेश घूमने नहीं जा पा रहे या फिर चीनी सैनिकों के आतंकी कृत्य के कारण वह बर्फीली पहाड़ियों पर मौज मस्ती नहीं कर पा रहे, कुछ सरकारी पदासीन तथाकथित लोग ऐसे भी हैं जिन्हें मजबूरन सरकारी कोटा पूरा करने के लिये आफिस, अदालत या मंत्रालय,  जहाँ भी वे कार्यरत हैं, न चाहते हुए भी जाना पड़ रहा है । सरकारी नौकरी अथवा नौकरशाही को मजबूरी में ड्यूटी बजानी ही पड़ रही है,और फिर मौसम कैसा भी हो उन्हें अपना कर्म यद्यपि बाहर सभी को किसी न किसी कारण वश अब निकलना पड़ ही रहा पर कुलीन वर्ग को यह सन्तोष है कि बीमारी का प्रभाव कुपोषित, शारीरिक रूप से कमजोर या जिनकी प्रतिरोधक क्षमता बेहतर नहीं उन्ही पर हो रहा फिर भी अपवाद स्वरूप कोई सत्येंद्र जैन अथवा पात्रा जैसे लोग संक्रमित हो भी जाते हैं तो डॉक्टर्स को सभी का इलाज छोड़ कर इनका इलाज पहले करना पड़ेगा, वह भी वहाँ नहीं जहाँ यह आम लोगों को एक के ऊपर एक ठूसते जा रहे बल्कि 5* सुविधा वाले बड़े-बड़े अस्पाल महानगरों में इनके लिये बिस्तर सजाये बैठें हैं कि “हुजूर एक बार सेवा का अवसर तो दीजिये” पर इतना ही बड़ा असंतोष इन तथाकथित लोगों को अभिजात्य बनाने वाली जनता झेल रही है । सत्ययता के और निकट जाऊँ तो सिर्फ असंतोष नहीं सरकारी अस्पतालों की बदहाली, जीवन रक्षक उपकरणों की कमी यहाँ तक कि कुछ की कोरोना रिपोर्ट उसके मृत्यु के पश्चात सप्ताह दो सप्ताह के बाद मिल रहे हैं । 
अब यहां यह कोरोना, लचर चिकित्सा व्यवस्था, मानसिक अवसाद साथ में, मानवाधिकार आयोग की परिभाषा की परिधि में देखें तो मृत व्यक्ति अर्थात लाश के साथ बिस्तर पर पड़े रहने की मानसिक यातना भी इन्हें झेलनी पड़ रही है।

लिए इन समस्याओं से इन्हें खुद लड़ना है तो इनपर अधिक टिप्पड़ी कुव्यस्था की व्याख्या करते-करते मेरी कलम मर्यादा की दीवार न तोड़ दे इस लिये इस यथावत स्थिति से आगे बढ़ कर कुछ और विन्दुओं पर चर्चा करते हैं जो कि लेख का मुख्य केंद्रविंदु भी है ।

ऐलोपैथ दवायें-दावा और हकीकत

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि अबतक कोरोना की दवा ढूँढने में विज्ञान को नाको चने चबाने पड़ रहे हैं और इस वायरस के साथ हमें जीने का निर्देश भी दिये जा रहे उन मामूली सी सावधानियों का अधिकतम सा प्रचार कर के । मैं इस बात से इनकार नहीं कर रहा कि इस लड़ाई में मास्क और सेनेटाइजर या फिर हर आधे घण्टे पर हाथ धोते रहना और अपना काम भी करते रहना, साथ में सामाजिक दूरी भी बनाये रखने का अनोखा प्रयोग कर के आप स्वयं को बहुत हद तक सुरक्षित रख सकते हैं पर इसके सहारे कोरोना की जंग बिल्कुल नहीं लड़ सकते । यह लड़ाई लड़ने और जीतने के लिए हमें एक कारगर दवा और वैक्सीन की जरूरत है जिसपर दुनियाँ भर के वैज्ञानिक प्रतिस्पर्धा और युद्ध स्तर पर कार्य कर रहे है, इस दिशा में अबतक की प्रगति की बात करें तो ऐलोपैथ के अबतक के आजमाये गये सभी हथियार लगभग नाकाफी रहे हैं । फिर हम सबसे पहले चर्चा में आने वाली दवा हाइड्रोक्लोरोक्वीन (HCQ) की बात करें तो इस दवा के गम्भीर दुष्प्रभाव जैसे हृदय घात (हार्ट अटैक) को खुला आमंत्रण दे रहे थे और बहुत से कोरोना पोजटिव मरीज हृदय घात से अपनी जान भी गवाँ चुके हैं तो इसको देखते हुए ( WHO ) ने इस दवा के कोरोना मरीजो पर प्रयोग को तत्काल प्रभाव से रोक दिया । किन्तु इसका उत्पादन किया भी गया और इस दवा को भारत से बहुत से राष्ट्राध्यक्षों ने माँगा भी जबकि यह कोई नई दवा नहीं थी इसके प्रभाव मलेरिया और गठिया के मरीजों में अच्छे देखे गये थे पर कोरोना मरीज पर इस दवा के फायदे से अधिक दुष्प्रभाव की चर्चा होने के बाद भी बहुत से देशों ने भारत पर दबाव बना कर इसे अपने देश में मंगाया अब इसके पीछे क्या वजह थी मैं इस बात से बिल्कुल अनभिज्ञ और आश्चर्यचकित भी हूँ ।
खैर इसके पश्चाचात रेमड़ेसिविर नाम की दवा का भी बड़ी मात्रा में उत्पादन किया गया और मरीजो पर इसके प्रभाव को देखा गया, शोध किया गया । इस दवा से दुनिया भर ने इतनी उम्मीद बाधी थी कि यह दवा अपने पहले चरण में ही विफल हो गई और WHO ने इस पर भी अंततः रोक लगा दी ।
अब एक अन्य दवा “फैविपिरावीर” को शोध के रूप में उसी उम्मीद के साथ लांच किया गया है जैसी उम्मीद दुनिया भर के बड़े-बड़े श्वेत वस्त्र धारण करने वाले प्रोफेसनल लोगों ने पहले बाधी थी । इस दवा का कोर्स 14 दिन का बताया जा रहा है और इसकी पहली डोज 1800MG की 2 टाइम सुबह शाम की गोली से शुरू होती है अर्थात लगभग 12-14 घण्टे के अंतराल पर 3600MG अब वह व्यक्ति जो इसकी इतनी बड़ी डोज की मादकता से बच जाये आप उसे चिरंजीवी घोसित कर सकते हैं फिलहाल कार्य प्रगति पर है ।

होम्योपैथ-दावा हकीकत

ऐसा बिल्कुल भी नहीं कि आयुर्वेद और होम्योपैथिक दवाओं के प्रयोग से उपरोक्त परिणामो के पश्चात किसी को कोई ऐतराज होना चाहिए क्योंकि यह सर्वविदित है कि यह दवायें प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति पर आधारित हैं और इसके कोई भी साइडइफेक्ट नहीं होते किन्तु ऐसा हो सकता है कि ऐलोपैथ के व्यापार पर चिकित्सा की इस पद्धति के उपचार का दुष्प्रभाव पड़े ? कारण यह है कि यह दवायें बेहद सस्ती और कारगर भी होती हैं । कोरोना संक्रमण के भारत में मामले शुरू होते ही आयुष मंत्रालय ने आरसैनिकम एलबम-30 का प्रयोग करने की सलाह सामान्य रूप से सभी को दी थी जो कि व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और उसे वायरल इन्फ़ेक्सन के साथ-साथ अन्य बीमारियों से भी बचाव करता है । यह 70-80 रूपये में असानी से मिल जाता है और इसके 1/2 औंश दवा का उपयोग आप पूरे परिवार समेत दो से तीन महीने या चिकित्सक के निर्देशानुसार और लम्बे समय तक भी कर सकते हैं क्योंकि जैसा पहले कहा गया कि इसका कोई साइडइफेक्ट नहीं होते यद्यपि कुछ चीजों से परहेज़ जरूरी होते हैं ।
इसी क्रम में मुम्बई के होम्योपैथ के एक डाक्टर ने लगभग 100 अनुभवी डाक्टरों समेत CK1 और CK2 नाम की दवा विकसित की जिसे लगभग 1 लाख फ्रंट लाइन वैरियर्स को दिया गया और इसके नतीजे आशाजनक थे । इनके सभी शोध आयुष मंत्रालय की निगरानी में किये गए जैसा कि डाक्टरों ने बार-बार दावा किया किन्तु लाख प्रयास के पश्चात 1 माह बीत जाने पर भी इस संदर्भ में अन्य जानकारी नहीं मिल सकी, अब ऐसा क्यों है इस सम्बंध में भी मुझे कोई तथ्य नहीं मिले ।

कोरोनिल-पतंजलि आयुर्वेद

लगभग 2000 वर्ष पुरानी भारत के योग को विश्व जगत के समक्ष दृढ़ता और लगन के साथ रखने वाले स्वामी रामदेव, आप कह सकते हैं कि इन्होंने योग और आयुर्वेद को एक नई पहचान दी । इनके पास आयुर्वेद पर शोध करने वाले बहुत से डॉक्टर वैज्ञानिक हैं जो आयुर्वेद को पुनः जीवित करने के प्रयास में लगे हैं, इनके द्वारा हाल में ही अश्वगन्धा, मुलैठी, तुलसी, आदि पारम्परिक रूप से देश में उपयोग में लाई जाने वाली वस्तुओ से बनाई गई दवा को लांच किया गया किन्तु अनलॉक-1 के समय जिन चीजों के प्रयोग का डाक्टरो ने घूम धूम कर प्रयोग करने की सलाह दी, उसी आधार पर बनी पतंजलि आयुर्वेद की दवा बनाने पर और देश के समक्ष 100% उपचार सम्भव है का दावा करने और प्रेस कांफ्रेंस करने का पुरस्कार बाबा को सम्बन्धित मंत्रालय द्वारा नोटिश जारी कर के और एक विशेष राज्य में FIR दर्ज कर के दिया गया, जबकि यह दवा भी बेहद कम कीमत पर उपलब्ध होती और जरूरत मंदों को मुफ्त में दिए जाने की घोषणा भी बाबा रामदेव द्वारा किया गया । आप को बताते चले बहुत सी बीमारियों के लिए पतंजलि आयुर्वेद ने आयुर्वेदिक दवा बनाई है और लोगो को नीम, एलोवेरा के गुणों को समझाया है । अब कन्फ्यूजन यह है कि हम कोरोना का उपचार चाहते हैं या व्यापार यह निर्णय आप बन्धुओ को करना है ।

3 thoughts on “ऐलोपैथ पर आयुर्वेद के गंभीर दुष्प्रभाव

  1. बस्ती जिले में कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ रहा है, लगभग 56 कंटेन्मेंट जोन बनाये गये हैं यह हैरान करने वाली बात है 5 दिन पहले शहर में कोई कंटेन्मेंट जोन नही था क्योंकि प्रवासी मजदूर और अन्य सामान्य लोग संक्रमित हो रहे थे मर भी रहे थे पर बदक़िस्मती हर एक जान की कीमत यहाँ अलग-अलग है ।
    खैर आप सभी अपने घरेलू अचूक उपाय अपनायें..

    1- आप जैसे भी ब्रश करते हों करें, किन्तु इसके बाद नीम के दातून का भी प्रयोग करें ।
    नीम से बड़ा एंटीवायरल न कभी था और न होगा, इसका उद्देश्य बस इतना कि नीम का कुछ अंश या तरल आप के मुख में जाये, इसलिये गन्ने की तरह चबाइये बाद में थूक दीजिये ।
    2- चाय की जगह काढ़े के सेवन की आदत डालिये ।
    3- गुनगुने पानी में हल्दी और सेंधा नमक मिला कर गरारे कीजिये ।
    4- ठंढे पानी या आइसक्रीम आदि के सेवन को विराम दीजिये और हल्का गुनगुना पानी पीजिये ।
    5- तुलसी के पत्ते का प्रयोग करिये खाइये कुछ दिन इसके हरे पत्ते का लुफ्त उठाइये ।
    6- लौंग, बड़ी इलायची के कुछ दाने जेब में रखिये और जब भी ध्यान आये उसे भी चबा कर खाइये ।
    7- आयुष मंत्रालय द्वारा सुझाई गई होम्योपैथ “आरसैनिकम एलबम” 3-4 बूँद दिन में तीन बार अथवा दो बार अवश्य लीजिये ।
    8- आप “कैम्फर 1M (सप्ताह में सिर्फ एक बार 3-4 बूँद लीजिये याद रखिये सप्ताह में 1 बार ।
    9- बलग़म खासी होने पर “ब्रानियाँ-30” का प्रयोग भी 3 बार कर सकते हैं ।
    10- सबसे महत्वपूर्ण बात इन दबाओ का कोई साइडिफेक्ट नहीं होता आप गूगल में जिसके विषय मे भी जानना चाहते हैं, गूगल पर सर्च कर लीजिए, निश्चिंत रहिये इन दवाओं का कोई साईडइफेक्ट नहीं ।
    10- उपरोक्त चीजो/दवाओं के साथ गुटखे आदि किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थों का सेवन न करिये यह दवा के प्रभाव को कम कर देता है, या फिर यह दवा लेने के कम से कम 1 घण्टे बाद “कैंसर-कारक” गुटखे का प्रयोग आपकी मर्जी है, किन्तु लीवर,आमाशय, किडनी इन सब को नष्ट करने के लिये प्रयोग किये जाने वाले सोमरस का सेवन बिल्कुल मना है यह आपके इन अंगों को प्रभावित तो करता ही है साथ में आप की प्रतिरोधक क्षमता को भी घटा देता है ।
    इन चीजों का प्रयोग आप को संक्रमित करने की लगभग 90% सम्भावनाओ को खत्म कर देता है । याद रखिये यह इंफेक्शन से बचने के उपाय हैं इन्फ़ेक्सन होने पर आप के लिए सरकारी अस्पताल की टूटती छत जो बरसात के मौसम में कभी भी गिर सकती है के नीचे लेट कर अंग्रेजी भाषा में लिखे अंग्रेजो के छोड़े गये अंग्रेजी दवा से उम्मीद बाधिये, छत से पानी की टपकती बूँद का खुद पर महसूस करिये, टेस्ट रिपोर्ट आने की प्रतीक्षा करिये और टेस्ट रिपोर्ट यमराज की दौड़ जो आप तक पहले पहुँचा वह अपना काम करेगा ।
    #धन्यवाद

  2. महोदय, मुझे दो माह पूर्व भयंकर खांसी हुई थी। महीने भर रही। कोई दवा काम नहीं किया। अंततः घर में ही उपलब्ध नीम चढ़ा गिलोय, नीम के 8 से 10 पत्ते, इतनी ही तुलसी के पत्ते को 2 लीटर पानी में उबालकर 1 लीटर के करीब काढ़ा तैयार किया। अति तिक्त स्वाद के बावजूद प्रतिदिन सुबह शाम 1 कप हलका गरम कर सेवन किया। पहली ही खुराक से फायदा और 4 दिनों में मुक्ति पा लिया। घर के बाकी सदस्यों ने भी इसे आजमाया और वे गंभीर खांसी व बुखार ।से मुक्त हो गए।
    इसमें कोई शक नहीं है कि हमारी प्राचीन आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली आज भी काम करती है। इसे यदा कदा
    सीमित रूप में आजमाने में कोई हर्ज नहीं नहीं। बाकी सब व्यापार की बातें हैं। अगर बाबा रामदेव प्रचार नहीं करते तो शायद अच्छा होता। लोग इसे चुपचाप ग्रहण कर लेते और तमाम बीमारियों पर काबू हो सकता था। ऐसा मेरा व्यक्तिगत मत है। धन्यवाद।

    1. आप की प्रतिक्रिया हेतु आभार….
      क्षमा पूर्वक बात काट रहा हूँ किन्तु आयुर्वेद यदा कदा नही सदा आप को स्वस्थ रख सकता है ।
      हमारी सभी बीमारियों की जड़ एक है, गलत खान पान और शराब गुटखा आदि की लत ।
      अगर हम वास्तव में वही खायें जो हमारे खाने के लिए प्रकृति ने दिया है तो हम कभी बीमार नही पड़ सकते और साथ में नित्य योग 30 मिनट आप की आयु को 100 वर्ष कर सकता है ।

Leave a Reply

%d bloggers like this: