कुछ नया, कुछ पुराना

 

पुरानी धुनों पे नये गीत लिखना,

पुराने गीतों को नई ताल देना,

नई ताल पर पांवो का थिरकना,

बुरा तो नहीं है पर ,

पुराने को पुराना ही रहने देना।

पुरानी नीव पर नया घर बनाना,

पुराने की ख़ुशबू मगर रहने देना।

नये को स्वीकारो, पुराना नकारो

ऐसा नहीं कभी भी होने देना।

जो आज नया है, कल पुराना लगेगा

पुराने को हमने कुछ यों संवारा,

पुराने नये में अंतर न जाना।

समय की पर्तों मे है जो पुराना,

नये ढंग में लायेगा वो ज़माना,

ना कुछ नया है ना ही पुराना

बदलाव करने का है बहाना।

ना पुराना सब सही था मैने न जाना

ना नया सब गलत है,ये भी ना माना

समझ जाओ तो, नयों को समझाना

पुरानों और नयों को अब है

पीढ़ियों का अंतर मिटाना,

दोनो को जोड़कर समन्वय बनाना।

Leave a Reply

%d bloggers like this: