सुभाष चन्द्र बोस जयंती

0
565


तुम मुझको दो खून अपना ,
मै तुमको दे दूंगा आजादी |
यही सुनकर देश वासियों ने,
अपनी जान की बाजी लगा दी ||

यही सुभाष का नारा था ,
जिसने धूम मच दी थी |
इसी विश्वास के कारण ही
उसने हिन्द फ़ौज बना दी थी ||

याद करो 23 जनवरी 1897 को
जब सुभाष कटक में जन्मे थे |
स्वर इन्कलाब के नारों से वे ,
भारत के जन जन में जन्मे थे ||

वे अमर अभी तक विश्व में,
जिन को मृत्यु ने पाला था |
वे हिन्द फ़ौज के सिपाही थे ,
सच्चा हिन्दुस्तानी वाला था ||

कहना उनका था वे आगे आये ,
जिसमे स्वदेश का खून बहता हो |
वही आगे आये जो अपने को ,
भारतवासी कहने का हक रखता हो ||

वह आगे आये जो इस पर ,
अपने खून से हस्ताक्षर करता हो |
मै कफ़न बढाता हूँ वह आये आगे,
जो इसको हंसकर आगे लेता हो ||

फिर उस रक्त की स्याही में ,
वे अपनी कलम डुबाते थे |
आजादी के इस परवाने पर ,
अपने हस्ताक्षर करते जाते थे ||

आर के रस्तोगी

Previous articleनेताजी सुभाषचन्द्र बोस : आजादी के अमर महानायक
Next articleभौजी आंगें न जाओ
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here