सुनो ए सखी

सुनो ए सखी,
चलो रास रचाए हम!
थोड़ा रंग जमाओ तुम,
थोड़ा रंग जमाये हम!
सुनो ए सखी,
चलो रास रचाए हम!

ये चाँदनी रात है,
दूधिया ये नज़ारा है!
तुम जल्दी आ जाओ,
कहीं बीत न जाये क्षण!!
सुनो ए सखी,
चलो रास रचाए हम!

ये कल-कल करता शोर,
नदी का ये किनारा है!
कहीं हो जाए न भोर,
अब बोले मन चकोर!
सुनो ए सखी,
चलो रास रचाए हम!

Leave a Reply

27 queries in 0.348
%d bloggers like this: