लेखक परिचय

अन्नपूर्णा मित्तल

अन्नपूर्णा मित्तल

एक उभरती हुई पत्रकार. वेब मीडिया की ओर विशेष रुझान. नए - नए विषयों के लेखन में सक्रिय. वर्तमान में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में परस्नातक कर रही हैं. समाज के लिए कुछ नया करने को इच्छित.

Posted On by &filed under खान-पान.


सामग्री (Ingredients)

200 ग्राम गोंद (200gm gond)

200 ग्राम गेहूं का आटा (200gm wheat flour)

200 ग्राम चीनी (200gm sugar)

250 ग्राम घी (250gm ghee)

एक टेबल स्पून खरबूजे के बीज (1 tbs melons seeds)

20-25 बादाम (20-25 almonds)

10 छोटी इलाइची (10 small cardamom)

 

विधि – (process)

गोंद के अगर ज्यादा मोटे टुकड़े हो तो उसे तोड़ कर थोड़ा बारीक कर लीजिये। कढाई में घी डालकर गरम कीजिये, गरम घी में थोड़ा थोड़ा गोंद डाल कर तलिये (गोंद घी में पापकार्न की तरह फूलता है, गोंद को बिलकुल धीमी आग पर ही तलिये ताकि वह अन्दर तक अच्छी तरह भुन जाय)। गोंद के अच्छी तरह फूलने और सिकने के बाद प्लेट में निकालिये, फिर से और गोंद कढ़ाई में डालिये, तल कर निकाल लीजिये, सारा गोंद इसी तरह तल कर निकाल लीजिये।

आटा छानिये और बचे हुये घी में डालकर हल्का गुलाबी होने तक भून कर थाली में निकाल लीजिए। बादाम को छोटा छोटा काट लीजिये। इलाइची छील कर कूट लीजिये। गोंद के ठंडा हो जाने पर थाली में ही बेलन से दबाव डालकर थोड़ा और बारीक कर लीजिये।

कढ़ाई में चीनी और 3/4 कप पानी डालिये, चाशनी बनाने रख दीजिये, चाशनी में उबाल आने के बाद 3- 4 मिनिट तक उबलने दीजिये। जमने वाली कनसिस्टैन्सी की चाशनी ( चाशनी की एक बूंद प्लेट में गिराइये, अपनी अंगुली और अंगूठे के बीच चाशनी को चिपका कर देखिये, अगर चाशनी मोटा तार निकालते हुये चिपकती है तब चाशनी बन चुकी है) बनाइये। आग बन्द कर दीजिये।

चाशनी में भुना हुआ गोंद, भुना हुआ आटा, बादाम और इलाइची पाउडर डालिये और अच्छी तरह सभी चीजों को हाथ से मिला लीजिये। मिश्रण से थोड़ा थोड़ा मिश्रण उठाइये और गोल लड्डू बनाकर थाली में लगाइये, सारे मिश्रण से लड्डू बनाकर थाली में लगा लीजिये।

इस मिश्रण को थाली या प्लेट में जमाकर उससे अपने मन पसन्द आकार में काट कर गोंद की बर्फी बना सकते हैं।

 

परोसने का तरीका (process of serving) – तैयार हैं गोंद के लड्डू। आप इसमे ऊपर से इसमे आप पिस्ता, बादम, काजू, किशमिश आदि भी डाल सकते है। इसे आप बनाते ही खा सकते हैं या इसे रखकर कुछ दिनों तक खाया जा सकता है।

 

 

One Response to “गोंद के लड्डू ; Gond ke Laddu recipe”

  1. sangeeta

    ye gond k laddu garmi k season me bina friz k kitne din tk khaye ja skte h

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *