“ऋषि दयानन्द अमर हैं और हमेशा अमर रहेंगेः नवीन भट्ट”