निजी अस्पतालों का अस्तित्व