न्यायालय का उदार रुख ?