More

    मानव ही मानवता को शर्मसार करता है