श्रीमद्भगवद्गीता और छद्म धर्मनिरपेक्षवादी