स्वामी शंकराचार्य और महर्षि दयानन्द के कार्य’