हाथी और कुत्ते

Posted On by & filed under कविता, व्यंग्य

  हाथी चल रहा है अपनी चाल कुत्ते भौंकते हैं पीछे पीछे भौंकते ही भौंकते बस भौंकते हैं कर न सकते कुछ मगर क्यों भौंकते क्या उस से डरते नहीं वे हैं वाग्वीर फिर क्यों भौंकते उन्हें हाथी से घृणा है उस की बेढब शक्ल से उस के तीखे बोल से उस की चाल से… Read more »

यत्र तत्र हाथी सर्वत्र!

Posted On by & filed under व्यंग्य

अशोक गौतम विपक्ष के आरोप पर चुनाव आयोग ने हर चौक पर विराजमान को ढकने के आदेश किए तो हाथियों के संगठन के प्रधान ने देश के तमाम हाथियों को संबोधित करते कहा,‘ हे मेरे देश के तमाम हाथियो! जरा चुनाव आयोग से पूछो कि हमारा चुनाव से क्या लेना देना! हम तो बस हाथी… Read more »

मायावती का हाथी-प्रेम

Posted On by & filed under राजनीति

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री सुश्री मायावती की प्रशंसा करनी चाहिए कि वो एक स्कूल की अध्यापिका से बड़े प्रदेश की मुख्यमंत्री की कुर्सी तक जा पहुंची. ये आसान रास्ता नहीं था. कोई कुछ भी कहे, कैसा ही आरोप लगाए, मायावती की सफलताओं को गंभीरता से लेना चाहिए. वो एक दलित की बेटी है, उनका अंग्रेजी… Read more »