अगर 19 का चुनाव जीतना है प्रिये !

0
173

तुम चली आ आना मेरे पास प्रिये
भले ही दुश्मनी रही हो कभी हमारी
पार्टी के दर खुले है हमेशा तुम्हारे लिए

भले ही साईकिल में पंचर हो जाये प्रिये !
पक्का पंचर लगवा दूंगा, सुनो तो प्रिये !
गददी पर बैठा कर संसद ले जाऊँगा तुझे
ये साईकिल तुम्हारी है तुम्हारी रहेगी प्रिये !

हाथी पर चढना अब मुमकिन नहीं है तुझे
ये चारा खाता है बहुत,खाली कर देगा तुझे
पता है चारा खाकर लालू को हो गई है सजा
वह भी शायद नहीं मदद अब देगा तुझे

पंजा भी शायद इशारा कर रहा है मुझे
पिछले चुनाव में भी बुलाया था उसने मुझे
उसने ही लुटिया डुबोई थी जानती हो प्रिये
मुझे धोखा दिया था,हो सकता है देवे भी तुझे

ममता से भी गठबंधन करना है मुझे
मोदी को भी अबकी बार हराना है मुझे
मिल जाओ सभी मोदी को हराने के लिए
भले ही प्रधान मंत्री बनाना न मुझे

गठबंधन न बनाओगी,हार जाओगी प्रिये !
फिर सारे के सारे सत्ता से बाहर रहेगे प्रिये !
यह मौका मिला है अब,इसे गबाना नहीं मुझे
अबकी बार प्रधान मंत्री बनाना है तुझे प्रिये !

आर के रस्तोगी

Previous articleभूख का इतिहास – भूगोल … !!
Next articleपूजा क्या, किसकी, कैसे व क्यों करें?
आर के रस्तोगी
जन्म हिंडन नदी के किनारे बसे ग्राम सुराना जो कि गाज़ियाबाद जिले में है एक वैश्य परिवार में हुआ | इनकी शुरू की शिक्षा तीसरी कक्षा तक गोंव में हुई | बाद में डैकेती पड़ने के कारण इनका सारा परिवार मेरठ में आ गया वही पर इनकी शिक्षा पूरी हुई |प्रारम्भ से ही श्री रस्तोगी जी पढने लिखने में काफी होशियार ओर होनहार छात्र रहे और काव्य रचना करते रहे |आप डबल पोस्ट ग्रेजुएट (अर्थशास्त्र व कामर्स) में है तथा सी ए आई आई बी भी है जो बैंकिंग क्षेत्र में सबसे उच्चतम डिग्री है | हिंदी में विशेष रूचि रखते है ओर पिछले तीस वर्षो से लिख रहे है | ये व्यंगात्मक शैली में देश की परीस्थितियो पर कभी भी लिखने से नहीं चूकते | ये लन्दन भी रहे और वहाँ पर भी बैंको से सम्बंधित लेख लिखते रहे थे| आप भारतीय स्टेट बैंक से मुख्य प्रबन्धक पद से रिटायर हुए है | बैंक में भी हाउस मैगजीन के सम्पादक रहे और बैंक की बुक ऑफ़ इंस्ट्रक्शन का हिंदी में अनुवाद किया जो एक कठिन कार्य था| संपर्क : 9971006425

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here