अगर 19 का चुनाव जीतना है प्रिये !

तुम चली आ आना मेरे पास प्रिये
भले ही दुश्मनी रही हो कभी हमारी
पार्टी के दर खुले है हमेशा तुम्हारे लिए

भले ही साईकिल में पंचर हो जाये प्रिये !
पक्का पंचर लगवा दूंगा, सुनो तो प्रिये !
गददी पर बैठा कर संसद ले जाऊँगा तुझे
ये साईकिल तुम्हारी है तुम्हारी रहेगी प्रिये !

हाथी पर चढना अब मुमकिन नहीं है तुझे
ये चारा खाता है बहुत,खाली कर देगा तुझे
पता है चारा खाकर लालू को हो गई है सजा
वह भी शायद नहीं मदद अब देगा तुझे

पंजा भी शायद इशारा कर रहा है मुझे
पिछले चुनाव में भी बुलाया था उसने मुझे
उसने ही लुटिया डुबोई थी जानती हो प्रिये
मुझे धोखा दिया था,हो सकता है देवे भी तुझे

ममता से भी गठबंधन करना है मुझे
मोदी को भी अबकी बार हराना है मुझे
मिल जाओ सभी मोदी को हराने के लिए
भले ही प्रधान मंत्री बनाना न मुझे

गठबंधन न बनाओगी,हार जाओगी प्रिये !
फिर सारे के सारे सत्ता से बाहर रहेगे प्रिये !
यह मौका मिला है अब,इसे गबाना नहीं मुझे
अबकी बार प्रधान मंत्री बनाना है तुझे प्रिये !

आर के रस्तोगी

Leave a Reply

%d bloggers like this: