पहली सदी से है भारत में ईसाइयत

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

आर. एल. फ्रांसिस ईसाइयत का आगमन ईसा मसीह के शिष्य संत थॉमस द्वारा अरब की खाड़ी पार कर भारत में आने के साथ ही शुरु हो गया था। केरल और तमिलनाडु के कई परिवारों द्वारा ईसाइयत को अपनाने के बावजूद यह सुदूर दक्षिण के अलावा आगे नहीं बढ़ पाई। 14वीं सदी में पुर्तगाली नाविक वास्कोडिगामा… Read more »

चर्च चक्रव्यूह में फंसे धर्मांतरित ईसाई

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

आर.एल.फ्रांसिस संसद का सत्र शुरू होने से पहले ही चर्च नेताओं ने सरकार पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है कि वह धर्मांतरित ईसाइयों को अनुसूचित जातियों की सूची में शामिल करने के लिए रंगनाथ मिश्र आयोग की रिपोर्ट को लागू करें। धर्मांतरित ईसाइयों को अनुसूचित जातियों की सूची में शामिल करने का मुद्दा काफी… Read more »

क्या ओडिशा में चर्च फिर कोई भयानक खेल खेलेगा?

Posted On by & filed under राजनीति

समन्वय नंद   पिछले दिनों कुछ मतांतरित ईसाई देश के प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से मिले। इन लोगों ने विभिन्न मामलों पर प्रधानमंत्री से चर्चा की। बातचीत के दौरान इन सज्जनों ने प्रधानमंत्री डॉ. सिंह को बताया कि ओडिशा में ईसाइयों पर हमले बढ़ रहे हैं। डॉ. सिंह ने उनकी बात को काफी गंभीरता से… Read more »

क्रिसमस पर विशेष/ चर्च के लिए आत्म-मंथन का समय

Posted On by & filed under धर्म-अध्यात्म

आर.एल.फ्रांसिस दो साल पहले उड़ीसा के कंधमाल में हुए दंगों के कारण ईसाइयों एवं कुई आदिवासियों को जान-माल का भारी नुकसान उठाना पड़ा है। हजारो लोग विस्थापित हो गये है जिंदगीं की गाड़ी धीरे धीरे दोबारा रफतार पकड़ रही है। उड़ीसा ही क्यों, मध्य प्रदेश, छतीसगढ़, गुजरात, बिहार, झारखंड, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, उतर प्रदेश, पूर्वी… Read more »