व्यंग्य ; हे अतिथि, कब आओगे??

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

अशोक गौतम हे परमादरणीय अतिथि! अब तो आ जाओ न! माना सर्दियों में घर से बाहर निकलना मुश्किल होता है, पर अब तो वसंत गया। विपक्ष ने चुनाव आयोग से कह जिन हाथियों को ढकवा दिया था वे भी वसंत के आने पर कामदेव के बाणों से आहत होकर चिंघाड़ने लग गए हैं। सच कहूं… Read more »

व्यंग्य ; क्रिकेट के नायक और खलनायक – राजकुमार साहू

Posted On by & filed under खेल जगत, व्यंग्य, साहित्‍य

इतना तो है, जब हम अच्छा करते हैं तो नायक होते हैं। नायक का पात्र ही लोगों को रिझाने वाला होता है। जब नायक के दिन फिरे रहते हैं तो उन पर ऊंगली नहीं उठती और जो लोग ऊंगली उठाते हैं, उनकी ऊंगली, उनके चाहने वाले तोड़ देते हैं। नायक की दास्तान अभी की नहीं… Read more »

व्यंग्य कविता ; काम वालियां – प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Posted On by & filed under कविता, व्यंग्य, साहित्‍य

काम वालियां नहीं कामपर बर्तन वाली दो दिन से आई इसी बात पर पति देव पर‌ पत्नि चिल्लाई काम वालियां कभी समय पर अब न आ पातीं न ही ना आने का कारण‌ खुलकर बतलातीं बिना बाइयों के घर तो कूड़ाघर हो जाता बड़ी देर से कठिनाई से सूर्य निकल पाता छोटी बच्ची गिरी फिसल… Read more »

अटेंशन – एक व्यंग्य कथा !!!

Posted On by & filed under व्यंग्य, साहित्‍य

कुछ दिन पहले तक मेरी हालत बहुत खराब थी। मुझे कहीं से कोई भी अटेंशन नहीं मिल रही थी। हर कोई मुझे बस टेंशन देकर चला जाता था, जैसे मैं रास्ते का भिखारी हूँ और मुझे कोई भी भीख में टेंशन दे देता था। मैं बहुत दुखी था। कोई रास्ता नहीं दिखाई देता था। मुझे… Read more »

व्यंग्य – अनजाने चेहरों की दोस्ती

Posted On by & filed under व्यंग्य

राजकुमार साहू यह बात अधिकतर कही जाती है कि एक सच्चा दोस्त, सैकड़ों-हजारों राह चलते दोस्तों के बराबर होता है। यह उक्ति, न जाने कितने बरसों से हम सब के दिलो-दिमाग में छाई हुई है। दोस्ती की मिसाल के कई किस्से वैसे प्रचलित हैं, चाहे वह फिल्म ‘शोले’ के जय-वीरू हों या फिर धरम-वीर। साथ… Read more »

हास्य-व्यंग्य/ मदर भैंसलो पब्लिक स्कूल

Posted On by & filed under व्यंग्य

पंडित सुरेश नीरव शिक्षा और भैंस का संबंध पुराणकाल से ही फसल और खाद तथा सूप और सलाद की तरह घनिष्ठ रहा है। ये बात और है कि हमारा अपना व्यक्तिगत संबंध शिक्षा के साथ वैसा ही है जैसा कि भट्टा-पारसौल के किसानों का संबंध बिल्डरों के साथ। अगर ज़मीन किसान की जायदाद है तो… Read more »

हास्य-व्यंग्य/ मेट्रों में आत्मा का सफर

Posted On by & filed under व्यंग्य

पंडित सुरेश नीरव सब शरीर धरे के दंड हैं। इसलिए जब भी किसी स्वर्गीय का भेजे में खयाल आता है तब-तब मैं हाइली इन्फलेमेबल ईर्ष्या से भर जाता हूं। सोचता हूं कितनी मस्ती में घूमती हैं ये आत्माएं। जिंदगी का असली मजा तो दुनिया में ये आत्माएं ही उठाती हैं। न गर्मी की चिपचिप न… Read more »

व्यंग्य : इस देश का यारों क्या कहना..

Posted On by & filed under व्यंग्य

विजय कुमार छात्र जीवन से ही मेरी आदत अति प्रातः आठ बजे उठने की है; पर आज सुबह जब कुछ शोर-शराबे के बीच मेरी आंख खुली, तो घड़ी में सात बज रहे थे। आंख मलते हुए मैंने देखा कि मोहल्ले में बड़ी भीड़ थी। कुछ पुलिस वाले भी वहां दिखाई दे रहे थे। मोहल्ले की… Read more »

साउथ के राजा की मंडी

Posted On by & filed under व्यंग्य

पंडित सुरेश नीरव बहुत समय पहले की बात है। भरतखंडे,जंबूद्वीपे, आर्यावर्ते दक्षिण में दयानिधान,भक्तवत्सल करुणानिधान नानके एक राजा हुए। राजा की कार्यकुशलता का ही चमत्कार था कि राज्य की कुल संपत्ति से कई गुना ज्यादा खुद राज़ा की संपत्ति थी। और अपनी संपत्ति को कैसे बढ़ाया जाए राजा इसी फिक्र में रात-रातभर जागता और दिन-दिनभर… Read more »

व्यंग्य/मुश्क़िल

Posted On by & filed under व्यंग्य

संजय ग्रोवर वह एक-एकसे पूछ रहा था। जनता से क्या पूछना था, वह हमेशा से भ्रष्टाचार के खि़लाफ़ थी। विपक्षी दल से पूछा, ‘‘मैंने ही तो सबसे पहले यह मुद्दा उठाया था।’’ उनके नेता ने बताया। उसने शासक दल से भी पूछ लिया, ‘‘हम आज़ादी के बाद से ही इसके खि़लाफ़ कटिबद्ध हैं। जल्द ही… Read more »